एटा, जासं। रिजोर क्षेत्र में रविवार दोपहर मकान का पिलर गिरने से पांच महिलाएं मलबे में दब गईं। हादसा होते ही परिजन और आसपास के ग्रामीण मौके पर जमा हो गए। मलबे में दबीं महिलाओं को बाहर निकाला गया। उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सभी महिलाएं परिवार में हुई गमी में शामिल होने के लिए गईं थीं।

रविवार दोपहर 12 बजे ग्राम मिर्जापुर सई निवासी रामनरेश के 18 वर्षीय पुत्र उमेश की शुक्रवार को हुई मौत के बाद परिवार की महिलाएं गमी में शामिल होने गई। मकान के पिलर से चांदनी का रस्सा बंधा हुआ था। तेज हवा के साथ पिलर गिर गया। वहां मौजूद परिवार के ही देवेंद्र कुमार की पत्नी धनवंती देवी, अशोक कुमार की पत्नी रेखा देवी, नेत्रपाल सिंह की पत्नी सरला देवी, रवेंद्र सिंह की पत्नी सुनीता देवी और एवरन सिंह की पत्नी कुसुमा देवी पिलर के मलबे में दब गईं। महिलाओं की चीखपुकार सुनकर परिवार और आसपास के लोग मौके पर जमा हो गए।

ग्रामीणों की मदद से सभी महिलाओं को बाहर निकाला गया। परिजनों द्वारा उन्हें जिला अस्पताल के आपात कक्ष में भर्ती कराया गया है। सभी महिलाओं की हालत खतरे से बाहर बताई गई है। जिला अस्पताल में मौजूद घायल महिलाओं के परिजनों ने बताया कि रामनरेश का पुत्र उमेश और गांव के ही छोटेलाल का पुत्र देव कुमार शुक्रवार रात 11 बजे दिल्ली से मैजिक टेंपो लेकर लौट रहे थे। जैसे ही टेंपो बागपत जिले के चांदनी नगर इलाके में पहुंचा कि तभी उसका टायर पंचर हो गया। सड़क किनारे मैजिक टेंपो को खड़ा कर दोनों टायर बदल रहे थे कि तभी अज्ञात वाहन ने दोनों को रौंद दिया। उनकी मौके पर ही मौत हो गई थी। पोस्टमार्टम के बाद शनिवार को दोनों के शव गांव पहुंचे। रात को ही गमगीन माहौल में दोनों का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस