जागरण संवाददाता, एटा: मारहरा मार्ग स्थित गांव सिरांव बीते कई सालों से कच्चे रास्ते व बिजली जैसी मूलभूत समस्याओं से जूझ रहा है। एक साल पहले विद्युत विभाग ने गांव में बिजली की लाइन डलवाई थी, जिसे अभी तक चालू नहीं कराया गया।

गांव की हालत ऐसी है कि जिस ओर से आवागमन हो, वह रास्ता ही कीचड़ और दलदलयुक्त हो रहा है। रास्ते में मवेशियों के बंधने से और अधिक दलदल हो रहा है। बरसात के दिनों में इन रास्तों से आवागमन होना तक प्रभावित हो जाता है। विद्युतीकरण के लिए गांव में एक साल पूर्व डाली विद्युत केबिल में सप्लाई नहीं दी गई है। ऐसे में वर्षो पुराने ट्यूबवैल की लाइन पर ही लोगों ने अपने कटिया डाले हैं। जिससे बना तारों का जंजाल कभी भी मुसीबत बन सकता है।

भाकियू व अन्य माध्यमों से ग्रामीणों ने समस्याएं शासन-प्रशासन को बताई, लेकिन अभी तक उनका हल नहीं निकला।

कहते है ग्रामीण

बार बार अधिकारियों को समस्याओं के बारे में बताया, लेकिन सुनवाई नहीं हो रही है।

-रमेश कुशवाह

कच्चे रास्ते व गंदगी के चलते लोगों की आवाजाही से घरों में भी गंदगी बनी रहती है।

-केशव देव

रास्ते पक्के कराने को कई बार कलक्ट्रेट पर धरना भी दिया लेकिन स्थिति जस की तस है।

-कमल ¨सह

जब रास्तों की गंदगी व जलभराव से निजात मिले, तब चैन से जीना संभव हो सके।

-महीपाल

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप