जागरण संवाददाता, एटा: जिले में नदियों को बचाने के लिए आगे आई समग्र विकास परिषद ने काली नदी में अविरल बहाव और निर्मल जल के लिए आंदोलन का एलान किया है। यह आंदोलन ईशन नदी बचाओ अभियान के बाद शुरू किया जाएगा।

काली नदी की स्थिति को लेकर मारहरा ब्लॉक परिसर में संगठन की बैठक हुई। राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल संघर्षी ने कहा कि संगठन ने ईशन नदी बचाओ अभियान की शुरुआत कर दी है। इसके बाद काली नदी के लिए आंदालन चलाया जाएगा। इस नदी में केमिकलयुक्त जहरीला पानी बह रहा है। जिसकी वजह से पूरे क्षेत्र का पानी जहरीला होने के कगार पर है। इस स्थिति से बचाने को संगठन ने काली नदी को निर्मल जल व अविरल बहाव के लिए बड़े आंदोलन का खाका खींचा है। इसके लिए मौजूद किसानों ने पूरे जोश के साथ आंदोलन में सहयोग देने की हामी भरी। इस दौरान जिलाध्यक्ष थान ¨सह लोधी, जिला उपाध्यक्ष अर¨वद शाक्य, जिला महासचिव सुरेश फौजी की संयुक्त संस्तुति से मारहरा ब्लॉक अध्यक्ष पद पर विनय यादव बबलू, ब्लॉक उपाध्यक्ष अर¨वद बघेल, ब्लॉक महासचिव कमल किशोर, ब्लॉक सचिव सौदान ¨सह को बनाया गया। बैठक में भगवान ¨सह वर्मा, सुखवीर ¨सह, सतेंद्र ¨सह, राजेंद्र ¨सह, राकेश कुमार, मनोज कुमार, हर्षवर्धन ¨सह, रामप्रकाश, नीरज, राजेश शाहू, ओबन ¨सह वर्मा, श्यामबाबू वर्मा, देवकीनंदन राजपूत, रामौतार प्रभू, राजाराम आदि लोग उपस्थित रहे।

झूठी रिपोर्ट पर ओडीएफ कर दिया मारहरा

बैठक के दौरान प्रशासन द्वारा मारहरा विकासखंड को ओडीएफ किए जाने पर सवाल खड़े किए गए। राष्ट्रीय महासचिव सुरेंद्र शास्त्री ने कहा कि स्थानीय कर्मचारियों और अधिकारियों ने जिलाधिकारी को झूठी रिपोर्ट दी, जिस पर ब्लॉक को ओडीएफ होने की घोषणा कर दी गई, जबकि सच्चाई यह है कि आज भी तमाम किसान और मजदूरों के यहां शौचालय नहीं बने हैं। जिनके बन भी गए हैं उनके खाते में पैसा नहीं पहुंचा। इस प्रकार अनेक स्तरों पर गड़बड़ी हो रही है, जिसे बर्दास्त नहीं किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस