जासं, एटा: शहर, कस्बा के साथ ही ग्रामीण क्षेत्र में भी कोरोना संक्रमण पांव पसारने लगा है। अंकुश लगाने के लिए प्रशासन ने गांव में कंटेनमेंट जोन बनाकर उसमें चेतावनी वाले पोस्टर लगाने का काम शुरू कर दिया है। ग्रामीण क्षेत्र में 183 जगहों पर कंटेनमेंट जोन बनाए जा चुके हैं। लगातार सैनिटाइजेशन कराया जा रहा है।

लगभग 20 दिनों से कोरोना संक्रमण का कहर ग्रामीण क्षेत्र में बढ़ता जा रहा है। हर तहसील क्षेत्र में लोग चपेट में आकर गंभीर होने के साथ ही जिदगी से हाथ धो रहे हैं। जिला पंचायती राज विभाग को गांव में कोरोना संक्रमण रोकथाम के लिए जिम्मेदारी सौंपी है। जिला पंचायती राज अधिकारी आलोक कुमार प्रियदर्शी ने प्रत्येक गांव में कोरोना संक्रमित वाले व्यक्ति के क्षेत्र में कंटेनमेंट जोन बनाने का आदेश जारी किया है। डीपीआरओ ने सभी सचिवों को इस आदेश का पालन करने के लिए कहा था। इसे लेकर अलग-अलग गांव में 183 जगह पर कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। चेतावनी लिखे पोस्टर और बोर्ड भी लगाए गए हैं। इससे बाहर से आने वाले लोगों को पता चल सके कि इस क्षेत्र में कोरोना संक्रमित व्यक्ति रह रहा है। जिला पंचायती राज अधिकारी ने कहा कि कंटेनमेंट जोन बनाने में लापरवाही न करने के लिए सभी सचिवों को आदेश दिया गया है। इसके बाद भी यदि कोई कर्मचारी उदासीनता दिखाता है तो उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी।