जासं, एटा: बागवाला थाना क्षेत्र में लापता बालक का शव काली नदी में पड़ा मिला है। मृतक के पिता ने पुत्र की अपहरण के बाद हत्या करने का आरोप लगाया है। रिपोर्ट पिता-पुत्र समेत चार के खिलाफ दर्ज कर ली गई है।

सोमवार सुबह सात बजे गांव के लोग ग्राम नरौरी के कुछ लोग काली नदी के पुल की ओर गए तो क्षतविक्षत नग्नावस्था में बालक का शव मिला। पता चला कि यह शव शनिवार शाम से लापता 12 वर्षीय प्रशांत का है। स्वजन रोते-बिलखते पहुंच गए। पिता हरिओम द्वारा पुलिस को सूचना दी गई।

एसएसपी उदयशंकर सिंह ने पहुंचकर पिता से घटना के संबंध में पूछताछ की। उनका कहना था कि गांव के ही रामनरेश और दिव्य प्रकाश दबंग प्रवृत्ति के हैं। कुछ दिन पूर्व उसकी जगह में पशुओं के जबरन खूंटे गाढ़ लिए थे। उसके घर को जाने वाले रास्ते को भी कई बार अवरुद्ध कर चुके हैं। पिता ने रामनरेश, उसके पुत्र दीपक, दिव्य प्रकाश और उसके पुत्र अंकित पर बेटा का अपहरण कर हत्या करने के बाद शव को नदी में फेंके जाने का आरोप लगाया।

एसओ बागवाला रामकेश राजपूत ने बताया कि अपहरण, हत्या और शव गायब करने का मामला रामनरेश, उसके पुत्र दीपक, दिव्य प्रकाश और उसके पुत्र अंकित के खिलाफ दर्ज कर लिया गया है। प्रशांत की मौत का सही कारण जानने के लिए पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। आरोपितों की तलाश में पुलिस की टीम लगी हुई हैं। जंगली जानवरों ने शव किया क्षतविक्षत:

श्वान व जंगली जानवरों ने शव क्षतविक्षत कर दिया था। एक हाथ कोहनी के नीचे से गायब मिला है। उसके कपड़े भी गायब हैं। तीन दिन बाद मैनपुरी से घर पहुंचे थे माता-पिता:

पोस्टमार्टम गृह पर मौजूद पिता हरिओम का कहना था कि वह और उसकी पत्नी अरुणा देवी बीमार सास मैनपुरी जनपद के बिछवां थाना क्षेत्र के ग्राम जिरौली निवासी राजेश्वरी को देखने वहां गए हुए थे। तीन दिन बाद शनिवार को घर लौटे थे। उन दोनों के आने के बाद ही प्रशांत घर से गया था।