जासं, एटा: राजा का रामपुर क्षेत्र के गांव बिल्सड़ में बुखार का प्रकोप कम नहीं हो रहा। गांव में हालात और बिगड़ गए। एक ही दिन में दो लोगों की मौत हो गई। उधर, विभिन्न स्थानों पर लगाए गए शिविरों में 11 लोगों में डेंगू की पुष्टि हुई है।

राजा का रामपुर क्षेत्र की ग्राम पंचायत बिल्सड़ में लगातार बुखार से मौतें हो रहीं हैं। गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम डेरा डाले हुए हैं फिर भी वहां हालात नहीं सुधर रहे। गुरुवार को बिल्सड़ निवासी 30 वर्षीय पवन और 55 वर्षीय ऊषा मिश्रा की मौत हो गई। बताया गया है कि पवन का आगरा के निजी चिकित्सक के यहां इलाज चल रहा था, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। ऊषा का इलाज दिल्ली में हो रहा था, उनकी भी मौत हो गई। इसके अलावा अलीगंज कस्बा के मुहल्ला रामप्रसाद चौधरी निवासी पंकज कुमार गुप्ता को कोई दिन से बुखार आ रहा था। परिवार के लोग उन्हें बरेली ले गए, जहां उपचार के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। उधर मेडिकल कालेज में स्थिति यह है कि बेड कम पड़ रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों से मरीजों की आमद निरंतर बनी हुई है। इमरजेंसी में भी बुखार के ही मरीज अधिक भर्ती हैं। सभी बेड फुल हैं। दरअसल ग्रामीण क्षेत्रों में लगाए जा रहे शिविरों में रैपिड टेस्ट किए जा रहे हैं और डेंगू के प्रारंभिक लक्षण वालों को भी रेफर किया जा रहा है। एलाइजा टेस्ट के दौरान जो मरीज डेंगू पीड़ित पाए जा रहे हैं उन्हें मेडिकल कालेज में भर्ती करने के लिए प्राथमिकता दी जा रही है। सीएमओ डा उमेश चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि सभी केंद्रों पर रैपिड टेस्ट किए जा रहे हैं, इसके अलावा दवाओं का भी वितरण कराया गया है।

Edited By: Jagran