एटा, जागरण संवाददाता : 6 सितंबर से चल रही कलक्ट्रेट बार एसोसिएशन की अनिश्चितकालीन हड़ताल का गुरुवार को उस समय पटाक्षेप हो गया, जब अधिवक्ता संकल्प मामले के सभी आरोपी अदालत की न्यायिक अभिरक्षा में पहुंच गए। ऐसे में बार सभागार में हुई बैठक में अधिवक्ताओं ने सम्पूर्ण परिस्थिति का मंथन करने के बाद हड़ताल समाप्त करने की घोषणा कर दी। शुक्रवार से अधिवक्ताओं द्वारा अदालतों में विधिवत कामकाज किया जाएगा।

बैठक में बार अध्यक्ष विजेंद्रपाल सिंह व महासचिव संजय उपाध्याय ने बुधवार को डीआइजी से हुई मुलाकात के बारे में बताया। पदाधिकारियों का कहना रहा कि डीआइजी के सकारात्मक सहयोग के कारण इस प्रकरण के दूसरे आरोपी को भी न्यायिक अभिरक्षा में ले लिया गया। जो संघर्ष की जीत का परिचायक है। बैठक में शिवशंकर अग्रवाल, राधारमण वाष्र्णेय, ध्यानपाल सिंह यादव, राजीव यादव, सर्वेन्द्र यादव, प्रमोद तिवारी, रामनरेश मिश्रा, ब्रजेश मिश्रा, संजीव तिवारी, वीरेश शर्मा, पूर्व महासचिव उदयवीर सिंह वर्मा, नसीम अहमद, पूर्व महासचिव राकेश यादव, बजीर सिंह यादव आदि ने अपने अपने विचार व्यक्त किए। बैठक में अधिवक्ताओं ने आरोपियों को न्यायिक हिरासत में लिए जाने के कारण संघर्ष की जीत बताते हुए हड़ताल वापस लेने की घोषणा कर दी, जिससे शुक्रवार से अब अदालतों में अधिवक्ताओं द्वारा विधिवत कामकाज आरंभ किया जाएगा। इस मौके पर योगेश सक्सेना, लोकेंद्रपाल सिंह, जितेंद्र बघेल, दीपक तिवारी, सुनील यादव, मुहम्मद इरफान, पूर्व महासचिव सुनील यादव, सुभाष शर्मा, प्रभाशंकर मिश्रा, दिनेश प्रताप सिंह चौहान समेत काफी संख्या में अधिवक्ता मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप