जागरण संवाददाता, एटा: सकीट क्षेत्र में एक मेडिकल स्टोर से प्रतिबंधित ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन जब्त किया गया है।

अवैध रूप से मेडिकल स्टोर संचालित किए जाने की भनक पर औषधि निरीक्षक आशुतोष चौबे मंगलवार को सकीट ब्लॉक के गांव मनसापुर पहुंचे। यहां नंदिनी मेडिकल स्टोर पर जाकर पड़ताल की। दुकान संचालक पवन कुमार पुत्र बाबूराम निवासी गांव घुमरिया थाना रिजोर इस व्यवसाय के संबंध में कोई लाइसेंस नहीं दिखा सका। जब टीम ने दुकान में बिक रही दवाओं की जांच-पड़ताल की तो देखकर दंग रह गए। यहां एलोपैथी दवाओं के साथ प्रतिबंधित ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन भी बेचा जा रहा था। मामले को गंभीरता से लेते हुए टीम ने उपलब्ध सभी दवा को अपने कब्जे में ले लिया। जिनमें से नमूने भरने के बाद दवाओं को सील कर दिया। औषधि निरीक्षक ने बताया कि 148 वॉयल ऑक्सीटोसिन की पाई गई हैं। जबकि 100 एमएल की 9 वायल बिना लेवल की मिली हैं। यह भी ऑक्सीटोसिन प्रतीत हो रहा है। वहीं बिना लाइसेंस के एलोपैथी दवा बिसीफेस 500 की 60 टेबलेट जब्त की गई हैं। जब्त की गई दवाओं की कीमत 18 हजार रुपये है।

हो रहा बड़ा खेल

--------------

ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन में कहीं न कहीं बड़ा खेल हो रहा है। इसकी बिक्री पर सरकार ने प्रतिबंध लगा रखा है। जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में इसका जमकर प्रयोग किया जाता है। इसके बावजूद इंजेक्शन की कमी नहीं नजर आती। जिस मेडिकल स्टोर पर औषधि विभाग की टीम ने इंजेक्शन पकड़े हैं, उनमें बिना लेवल की नौ वायल पाई गई हैं। इसे लेकर टीम मेडिकल स्टोर संचालक से पूछताछ में जुटी है।

Posted By: Jagran