एटा, जेएनएन। थाना मलावन क्षेत्र के अंतर्गत एटा- कानपुर हाईवे पर गांव पथरौआ के निकट बेवर डिपो की रोडवेज बस और कार में हुई भीषण भिड़ंत में कार सवार तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि सात लोग घायल हुए हैं। घायलों में दो की हालत नाजुक बनी हुई है, उन्हें आगरा रेफर कर दिया गया है।

मैनपुरी के कुरावली से एटा की ओर एक ओमनी कार आ रही थी। तभी इधर से जा रही एक रोडवेज बस ने उसे टक्कर मार दी। दोनों ही गाडिय़ां रफ्तार से थीं। कार के परखच्चे उड़ गए। इस कार में दस लोग सवार थे, जिनमें से तीन लोगों कार चालक एवं मालिक 37 वर्षीय सुरेंद्र कुमार निवासी गांव नगला मोती थाना क्षेत्र मलावन जनपद एटा, 28 वर्षीय रामब्रज निवासी भगवंतपुर थाना औंछा जनपद मैनपुरी तथा 10 वर्षीय सोनम निवासी काशीराम कालोनी मानपुर एटा की मौत हो गई। हादसे में अकाश, राधा निवासी काशीराम कालोनी मानपुर, श्यामवीर निवासी लखौरा निवासी कुरावली जनपद मैनपुरी, आदेश निवासी नगला जई थाना जसरथपुर एटा, साबिर निवासी रीचपुरा थाना क्षेत्र कुरावली जनपद मैनपुरी, विमलेश निवासी भगवंतपुर थाना औंछा जनपद मैनपुरी व एक अन्य घायल हो गए। कार में सवार कोई भी शख्स घायल होने से नहीं बचा, जिन तीन लोगों की मौत हुई है उन्हें भी जिला अस्पताल लाया गया था, जहां उन्होंने दम तोड़ा। शेष घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है, जहां से दो को आगरा रेफर कर दिया। पुलिस ने रोडवेज बस के चालक को गिरफ्तार कर लिया है।

जिसने देखा मंजर, कांप गया दिल 

थाना मलावन क्षेत्र के अंतर्गत हाईवे पर गांव पथरौआ के निकट बेवर डिपो की रोडवेज बस और ओमनी कार में हुई टक्कर इतनी भीषण थी कि देखने वालों के दिल दहल गए। कार के परखच्चे उड़ गए। टकराने के बाद वह दो बार पलटी। क्षतिग्रस्त कार के मलबे में उसमें बैठी हुईं सवारियां फंस गईं, एक-दो लोग उछलकर सड़क पर जा गिरे। इसी कार में मां-बेटी भी सवार थीं। मां भी घायल हो गई और पिता भी। घंटों तक मां को नहीं बताया गया कि उसकी बच्ची नहीं रही। इस हादसे में कार चालक नगला मोती निवासी सुरेंद्र कुमार की मौत हुई है। उसने पुरानी ओमनी कार हाल ही में खरीदी थी, जिससे वह सवारियां ढोता था। उसके परिवार में मां, एक भाई और एक बहन हैं। बहन दिव्यांग है, पूरे परिवार का बोझ सुरेंद्र के ऊपर ही था। इसके अलावा हादसे में घायल हुए आकाश और उसकी पत्नी राधा की बेटी 10 वर्षीय सोनम की मौत हो चुकी है। मां राधा गंभीर रूप से घायल है। जिला अस्पताल की इमरजेंसी में घायल अवस्था में ही वह बार-बार अपनी बेटी को पुकार रही थी, लेकिन सदमा पहुंचेगा इसलिए इस मां को नहीं बताया गया कि उसकी बेटी की जान जा चुकी है। हादसे में मारे गए 28 वर्षीय रामब्रज अपने निजी काम से एटा आ रहे थे, लेकिन वे भी हादसे के शिकार हो गए। घटनास्थल पर मौजूद लोगों ने बताया कि बस और कार दोनों ही रफ्तार से थीं। हाईवे पर इन दिनों फोरलेन का काम चल रहा है, इस कारण सड़क पर मिट्टी के ढेर लगे हैं। एक तरफ सड़क टूटी है तो दूसरी तरफ बेहद संकरी हो गई है इसलिए वाहनों को निकलने के लिए ज्यादा जगह नहीं मिल पाती। इस वजह से भी हादसे हो रहे हैं।

 

Posted By: Tanu Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप