जासं, एटा: मिरहची क्षेत्र में लगी आग से 41 पशु जलकर मर गए, जबकि मारहरा में आग से जलकर दो पशुओं की मौत हो गई। एसडीएम सदर ने अग्निकांड से हुई क्षति की रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंपी है। अग्निकांड से प्रभावित परिवारों में कोहराम मचा हुआ है। आग लगने का कारण पता नहीं चल सका है।

पशुपालक ग्राम अगरपुर निवासी परसादी लाल ने रोजाना की भांति 40 बकरीं और एक भैंस को झोपड़ी में बांध दिया था। रात के समय अचानक आग लग गई। जब आसपास के लोगों ने आग की लपटें उठते देखीं तो सूचना पशुपालक को दीं। जब तक आग बुझाई गई, तब तक सभी पशु जलकर मर चुके थे। अग्निकांड की जानकारी मिलते ही एसडीएम सदर अबुल कलाम ने आग से हुई क्षति का आकलन किया। उन्होंने अपनी रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंप दी। वहीं क्षेत्रीय विधायक ने पशुपालक को प्रधानमंत्री आवास और पशु बांधने के लिए टिन शेड दिलवाने के लिए जिलाधिकारी से वार्ता की।

दूसरी ओर मारहरा क्षेत्र के ग्राम अजमतगंज में बुधवार रात झोपड़ी में आग लगने से राजपाल सिंह के दो पशु जल गए। दोनों की मौत हो गई, जबकि गोवंश को बचा लिया गया। पशुपालक का कहना था कि अग्निकांड से उसे दो लाख का नुकसान हुआ है। जिलाधिकारी से आर्थिक मदद की पशुपालक ने गुहार की है। दोनों स्थानों पर आग किन परिस्थितियों में लगी इसकी जानकारी कोई पशुपालक नहीं दे सका। इन्होंने की आर्थिक मदद:

ग्राम अगरपुर में हुए अग्निकांड से प्रभावित परसादी लाल को क्षेत्रीय विधायक वीरेंद्र सिंह लोधी और ग्राम प्रधान सतेंद्र कुमार ने 21-21 हजार रुपये की आर्थिक मदद की, जबकि युवा भाजपा मंडल अध्यक्ष बंटी राजपूत ने पशुपालक को 10 हजार रुपये दिए हैं।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप