देवरिया: महराजगंज जनपद के सोनौली में तैनात उप निरीक्षक जगदीश प्रसाद की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई थी। बुधवार की सुबह जब पैतृक निवास सहियागढ़ उप निरीक्षक का शव पहुंचा तो पूरे गांव का माहौल गमगीन हो गया है। चारों तरफ केवल चीत्कार ही सुनाई देने लगा। बड़ी बेटी शशिप्रभा पिता का शव देखते ही दहाड़ मारने लगी। वह रोते-रोते कह रही थी कि पापा ने वादा किया था कि बेटा जल्द ही घर लौट के आऊंगा। कई काम बाकी है। उसको पूरा करूंगा। वहीं गांव के प्रधान विजय शंकर यादव ने कहा कि मिलनसार छवि के चलते गांव में लोकप्रिय थे। गांव जब छुट्टी पर आते थे तो सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते थे। दूसरे नंबर की बेटी सुधा व छोटी बेटी रेनू रोते-रोते बेहोश हो जा रही थी, जबकि पत्नी प्रभावती का भी रोते-रोते बुरा हाल हो गया था। जिस पति के लिए उसे बुधवार को तीज व्रत रखना था, उसका शव दरवाजे पर रखा हुआ था। इकलौते बेटे विवेक प्रसाद ने नम आंखों के बीच मुखाग्नि दी।

Posted By: Jagran