देवरिया: डीजल के मूल्य में लगातार हो रही वृद्धि से परेशान ट्रक मालिकों के सब्र का बांध अंतत: सोमवार को टूट गया। उन्होंने माल गोदाम पर सामान लादने से मना करते हुए ट्रकों को खड़ा करने के बाद ट्रक यूनियन के जिलाध्यक्ष राघवेंद्र ¨सह के नेतृत्व में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर मूल्य वृद्धि का विरोध जताया।

श्री ¨सह ने कहा कि डीजल के मूल्य में रोज वृद्धि हो रही है। तीन साल में डीजल की कीमत 48 रुपये से बढ़कर 73 रुपये प्रति लीटर तक जा पहुंची है। सरकार द्वारा तेल कंपनियों को लाभ पहुंचाने के लिए मूल्य वृद्धि की उन्हें छूट दी गई है। राजस्व बढ़ाने के नाम पर जनता का शोषण उचित नहीं है। डीजल की कीमत बढ़ने से ट्रकों को चलाना संभव नहीं हो पा रहा है। सारी कमाई ट्रक की मरम्मत व चालकों के वेतन, खोराकी में समाप्त हो जा रही है। मूल्य कम होने तक ट्रकों के पहिए नहीं हिलेंगे।

इस दौरान हरेंद्र जायसवाल, अजय गिरि, निप्पी बाबू, जन्मेजय मिश्र, विकास कानोडिया, रामप्रवेश चौबे, मकसूद खान, सोहन यादव, मुन्नीलाल ¨सह आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran