जागरण संवाददाता, देवरिया:

तरकुलवा थाना क्षेत्र के पटनवा पुल के समीप एलपीजी गैस लिए टैंकर के पलटने व गैस रिसाव के चलते देवरिया-कसया मार्ग पर 24 घंटे तक आवागमन ठप रहा। इससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। उधर प्रयागराज से आई इंजीनियरों की टीम ने गैस रिसाव को बंद किया और फिर टैंकर को सीधा कराया गया। रिसाव बंद होने के बाद जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली।

कोलकाता से बैतालपुर एलपीजी गैस लेकर आ रहा टैंकर रविवार की दोपहर देवरिया-कसया मार्ग पर अनियंत्रित होकर पलट गया, जिससे टैंकर से गैस रिसाव शुरू हो गया। पहले बैतालपुर डिपो की टीम आग बुझाने का प्रयास की, लेकिन सफल नहीं हो सकी। गैस रिसाव के चलते देवरिया-कसया मार्ग पर आवागमन ठप कर दिया गया। पूरी रात तरकुलवा पुलिस के साथ ही अग्निशमन विभाग की टीम वहां तैनात रही। रविवार की दोपहर पहुंची इंजीनियरों की टीम ने टैंकर के लिकेज को बंद किया। इसके बाद लखनऊ से आए रिकवरी वाहन ने टैंकर को उठाने का कार्य शुरू किया। सकुशल टैंकर के उठने के बाद अधिकारियों ने राहत की सांस ली।

मुख्य अग्निशमन अधिकारी शंकर शरण राय ने कहा कि रिसाव बंद कर टैंकर को बैतालपुर भेजने की तैयारी कर ली गई है।

-

बग्गी की ठोकर से छात्र घायल, बवाल में पांच घायल

जागरण संवाददाता, देवरिया: महुआडीह थाना क्षेत्र के तिलाटाली गांव में ईंट-भट्ठे के समीप ईंट ढोने वाली बग्गी से सोमवार को कोचिग पढ़कर लौट रहा छात्र घायल हो गया। इसके बाद दो गांवों के लोग आमने-सामने हो गए और धारदार हथियार के साथ ही ईंट-पत्थर भी चले। आधे घंटे बाद पहुंची पुलिस ने लोगों को खदेड़ कर मामले को शांत कराया। छात्र को आग में फेंकने का आरोप भी लगाया जा रहा है। छात्र समेत तीन लोगों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। तनाव को देखते हुए ईंट-भट्ठे पर पुलिस का पहरा लगा दिया गया है, जबकि गांवों में गश्त बढ़ा दी गई है।

महुआडीह थाना क्षेत्र के रामपुर दुबे गांव के पकड़िहवा निवासी राहुल यादव बेलवा बाजार कोचिग पढ़ने के लिए सुबह साइकिल से गया था। लौटते समय टिलाताली ईंट-भट्ठे के समीप ईंट लेकर जा रही बग्गी से ठोकर लग गई। इसके बाद मजदूर व राहुल के बीच मारपीट हो गई।

इसकी जानकारी राहुल के गांव के लोगों को हुई तो वह उग्र हो गए और ईंट-भट्ठे पर चले गए। ईंट-भट्ठा मालिक काजी कबीर निवासी तवक्कलपुर के साथ गांव से कुछ लोग आ गए और दोनों गांवों के लोग एक-दूसरे से भिड़ गए। धारदार हथियार के साथ ही ईंट पत्थर भी चले, जिसमें हरिलाल यादव, राहुल यादव, ईंट भट्ठा मालिक काजी कबीर, अखरुजमा, शालू घायल हो गए।

छात्र राहुल का कहना है कि उसे आग में फेंका गया, जिससे उसका पैर जल गया। किसी तरह वह भाग कर जान बचाया। इस बीच उसके गांव के दोस्त अजीत यादव व मंटू यादव पहुंचे तो आरोपितों ने उनकी पिटाई की और बंधक भी बना लिया। किसी तरह वह उनके चंगुल से छूट कर भाग निकले।

बवाल बढ़ने की सूचना पर महुआडीह पुलिस पहुंची। दो पक्षों के आमने-सामने होने की सूचना पर हिदूवादी संगठन के लोग भी मौके पर पहुंच गए। लोगों ने आरोपितों पर सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।

थानाध्यक्ष राममोहन सिंह का कहना है कि बग्गी से ठोकर लगने के बाद विवाद हुआ था, मौके की स्थिति सामान्य है। फिलहाल पुलिस गश्त बढ़ा दी गई है। आग में फेंकने की बात गलत हैं। ईंट भट्ठा पर राहुल के जाने से पैर झुलस गया है। सीओ सिटी श्रीयश त्रिपाठी ने कहा कि मामले में सख्त कार्रवाई की जाएगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप