देवरिया: विश्व हिदू परिषद के तत्वावधान में नागरी प्रचारिणी सभागार में सामाजिक समरसता सम्मेलन का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि अखिल भारतीय संगठन महामंत्री विनायक राव ने भगवान राम व महर्षि वाल्मीकि के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। मुख्य अतिथि ने कहा कि छुआछूत मुक्त भारत समरस व सबल हिदू समाज बनाने का संकल्प लेकर विश्व हिदू परिषद निरंतर समाज में कार्य कर रहा है। हिदू धर्म व समाज में छुआछूत, ऊंच-नीच का कोई स्थान नहीं है। हमें अपने व्यवहार में परिवर्तन लाना होगा। अश्पृश्यता की कहीं भी मान्यता नहीं है। महापुरुष किसी एक जाति के नहीं होते, बल्कि संपूर्ण राष्ट्र के होते हैं। नानक, बुद्ध, महावीर, रविदास, महर्षि वाल्मीकि की जयंती हिदू समाज के लोगों को मिलजुलकर बनाना चाहिए। अपने व्यवहार में भाई चारा लाना होगा। संत महात्माओं को अनुसूचित जाति, जनजाति की बस्तियों में जाकर प्रवचन करना चाहिए। प्रत्येक जाति के व्यक्ति समान हैं। यह भाव अपने अंदर लाना होगा। तभी हमारा देश सबल, संपन्न व अखंड होगा। आभार जिलाध्यक्ष पुरुषोत्तम मरोदिया ने जताया। अध्यक्षता उमाशंकर प्रसाद सोनकर व संचालन प्रांत संगठन मंत्री प्रदीप पांडेय ने किया। सम्मेलन में सजीतदास, विभाग अध्यक्ष भरत अग्रवाल, अवध बिहारी त्रिपाठी, वंशराज पांडेय, तारकेश्वर शाही, एएन दुबे, भागवत यादव, पवन जायसवाल, दुर्गेश प्रताप राव, संतोष, मंतेश्वर, गुलाब चंद्र, राजेश अग्रवाल, डा.राम नरेश सिंह, लालजीधर दुबे, राजेश आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप