देवरिया: कोरोना संक्रमण के चलते अधिकांश ट्रेनें बंद हैं, ऐसे में कुछ चुनिदा ट्रेनों का ही संचलन हो रहा है। इन ट्रेनों में टिकट के लिए मारामारी है। हालत यह है कि दिन के 11 बजे तक खड़े रहने के बावजूद किसी तरह से सिर्फ दो से तीन टिकट यात्रियों को मिल पा रहे हैं। इसके बाद बुकिग फुल हो जा रही है। जिससे यात्री परेशान हैं।

सदर रेलवे स्टेशन पर दो आरक्षण काउंटर चल रहे हैं। 19 सितंबर को दोनों काउंटर से दो स्लीपर, दो वातानुकुलित, 20, 21 व 22 सितंबर को भी यही स्थित रही। यात्री संख्या पर नजर दौड़ाएं तो जितने टिकट बने हैं, उसमें 20 सितंबर को आठ यात्री, 21 सितंबर को 9 यात्री, 22 सितंबर को नौ यात्रियों को यात्रा का मौका मिला।

सदर कोतवाली के कतरारी निवासी सुधीर का कहना है कि वह अहमदाबाद में काम करते थे, इन दिनों अपने गांव आए हैं, 15 दिन से टिकट के लिए लाइन लगा रहे हैं, लेकिन हर दिन वापस चले जाते हैं। सिरसिया के मनोज कुमार, तरकुलवा के राहुल सिंह का कहना है कि वह एक सप्ताह से लाइन लगा रहे हैं, लेकिन टिकट नहीं मिल रहा है।

दलाल वसूल रहे तीनगुना रुपये

तत्काल टिकट दलाल सक्रिय हो गए हैं, आरक्षण काउंटर पर आधी रात को ही टिकट दलाल अपने लोगों को खड़ा कर दे रहे हैं और टिकट बनवा रहे हैं। इसके अलावा ई-टिकट दलाल भी सक्रिय हो गए हैं जो प्रतिबंधित साफ्टवेयर से टिकट बना रहे हैं। यह लोग यात्रियों को तीन गुना रुपये लेकर टिकट मुहैया करा रहे हैं।

स्टेशन अधीक्षक आइ अंसारी ने कहा

तत्काल टिकट को लेकर थोड़ी सी दिक्कत हो रही है। आरक्षण काउंटर पर एक स्लीपर व एक एसी का टिकट बन पा रहा है। ऐसे में हर दिन सदर रेलवे स्टेशन से बमुश्किल चार टिकट बन पा रहे हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस