देवरिया: परिषदीय विद्यालयों में सरकार की योजनाओं का लाभ बच्चों को समय से नहीं मिल पा रहा है। सरकार की तरफ से पारदर्शी व्यवस्था के नाम पर देरी इसकी वजह बताई जा रही है। ठंड शुरू होने से पहले स्वेटर वितरण का दावा करने वाली सरकार की मंशा पर जिम्मेदार ही पानी फेर रहे हैं। खरीद प्रक्रिया में देरी के चलते अधिकतर विद्यालयों में बच्चे स्वेटर के इंतजार में हैं।

उच्च प्राथमिक विद्यालय समोगर में 50, खुदिया में 12, दुबौली में 51, महेन कन्या में 137, लवकनी गंगा में 172, भदिला प्रथम में 36 बच्चों का नामांकन है, लेकिन ठंड लगातार बढ़ने के बाद भी छात्रों को स्वेटर नहीं दिया गया पाया है। इनमें से कुछ ऐसे बच्चे हैं जिनके पास गर्म कपड़े उपलब्ध हैं। जिन्हें पहन कर वे स्कूल आ रहे हैं। जबकि अधिकांश छात्र बिना स्वेटर के ही विद्यालय आ रहे हैं। ऐसे हालात बरहज ब्लाक के अधिकांश पूर्व माध्यमिक विद्यालयों की है। प्रधानाध्यापकों का कहना है कि अब तक बीआरसी से स्वेटर उपलब्ध नहीं कराया गया है, जबकि संख्या के अनुसार मांग बहुत पहले ही भेज दी गई थी।

खंड शिक्षा अधिकारी शैलेंद्र कुमार का कहना है कि पूर्व माध्यमिक विद्यालय के बच्चों के माप का स्वेटर उपलब्ध नहीं था। जैसे ही स्वेटर उपलब्ध होगा वितरित करा दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस