देवरिया : स्वच्छ भारत मिशन के तहत बनने वाले शौचालय अधिकारियों व कर्मचारियों की लापरवाही की भेंट चढ़ गए। ग्राम पंचायतों ने खाते से पूरा पैसा निकाला लेकिन शौचालयों का निर्माण नहीं कराया।

जिले में 347350 शौचालय का निर्माण कराना चुनौती बन गया है। अब तक मात्र 239203 शौचालय का फोटो अपलोड व जीओ टैगिग हो सका है। 106466 शौचालयों की जीओ टैगिग नहीं हुई है। जबकि पहले 270949 शौचालय का 325.1388 करोड़ रुपये पहले ही खातों में भेज दिया गया है। इधर एलओबी एक के 49401 तथा एलओबी दो के 27000 शौचालयों का 91.6812 करोड़ रुपये खाते में भेजा जा रहा है। इसमें से अधिकांश के खाते में पैसा चला गया है।

--------

केस एक

गौरीबाजार विकास खंड के भृगुसरी में 300 शौचालय के सापेक्ष मात्र 200 शौचालय बने हैं, जबकि सभी शौचालयों का पैसा अवमुक्त कर दिया गया है। 100 शौचालय बनेंगे या नहीं, इसका पता नहीं है।

------------------

केस दो

बनकटा विकास खंड के बंजरिया में 167 शौचालयों का निर्माण होना था, लेकिन 110 शौचालय ही बन पाए हैं। 57 शौचालय का पैसा खाते से निकाल लिया गया है।

---------

केस तीन

भटनी विकास खंड के भटनी खास में 32 शौचालयों का निर्माण होना था, लेकिन 16 शौचालय ही बने हैं। 16 शौचालय का पैसा निकाल लिया गया है।

--------

केस चार

भटनी विकास खंड के साहोपार में पहले 150 शौचालय दिया गया था, जिसमें मात्र 82 ही बन पाए, शेष का पैसा खाते से निकाल लिया गया है। अभी वह पहले वाले बने नहीं तब इधर दोबारा 150 शौचालय का पैसा ग्राम पंचायत के खाते में फिर से भेज दिया गया है।

---------

केस पांच

रुद्रपुर विकास खंड क्षेत्र के बैदा में दो बार में 436 शौचालय का निर्माण होना था, लेकिन 400 ही बन पाए हैं। शेष 36 शौचालय नहीं बने हैं। पैसे का पता नहीं है।

-----------------------

स्वच्छ भारत मिशन के तहत जिले में कुल 347350 शौचालयों का निर्माण कराया जा रहा है। इसमें 239203 शौचालयों का निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया गया है। शेष को तीस मार्च तक पूर्ण कर लिया जाएगा। जिन ग्राम पंचायतों ने पैसा निकाला है और शौचालय नहीं बनवाया है। उन्हें नोटिस दिया गया है। शौचालय निर्माण न कराने पर गबन का मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।

आनंद प्रकाश

जिला पंचायत राज अधिकारी

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस