देवरिया: टाउन हाल स्थित आडिटोरियम परिसर में पूर्व सांसद स्व.मोहन सिंह की प्रतिमा रखे जाने पर सियासत गरम हो गई है। सभासदों ने कमिश्नर से मुलाकात कर कार्रवाई की मांग की है।

सभासदों ने कहा कि पूर्ववर्ती सपा सरकार या तत्कालीन नगर पालिका प्रशासन ने नामकरण के संबंध में कोई निर्णय नहीं लिया था। निर्माण कार्य पूरा होने पर नगर पालिका बोर्ड ने 21 दिसंबर 2019 को पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर इसका नामकरण किया। कमिश्नर से इसका अनुमोदन कराया गया। 18 सितंबर की रात कुछ अज्ञात लोगों ने पूर्व सांसद स्व.मोहन सिंह की प्रतिमा स्थापित की और बाबू मोहन सिंह सभागार लिख दिया है। कमिश्नर को सौंपे गए पत्र पर सभासद वीरेंद्र कुमार सिंह, रीमा पासवान, रजनी देवी, सुमित कुमार गुप्ता, नित्यानंद पांडेय, गोविद चौरसिया आदि के हस्ताक्षर हैं। भाजपा कार्यकर्ताओं ने जताया विरोध

भाजपा कार्यकर्ताओं व सभासदों ने नगर पालिका सभागार में बैठक कर मूर्ति रखने व नामकरण करने की घटना की निदा की। साथ ही दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी को पत्रक दिया। सभासद दिनेश शुक्ला, पूर्व जिला उपाध्यक्ष अजय उपाध्याय ने कहा कि ऐसा करने वालों के खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए। इस मौके पर भाजपा नेता पवन मिश्रा, जितेंद्र पांडेय, नवीन सिंह, सभासद गोविद चौरसिया, सभासद धर्मेंद्र सिंह मौजूद रहे।

पार्टी किसी भी अवैधानिक कार्य को बर्दाश्त नहीं करेगी

भाजपा जिलाध्यक्ष अंतर्यामी सिंह ने घटना की निदा की है। पार्टी ऐसे किसी भी अवैधानिक कार्य को बर्दाश्त नहीं करेगी। नगर पालिका अध्यक्ष अलका सिंह ने कहा कि वह नगर पालिका बोर्ड के साथ हैं।

ईओ ने मांगा स्पष्टीकरण

ईओ सत्यप्रकाश सिंह ने बताया कि कार्यदायी संस्था चंदा कंसट्रक्शन ने अभी आडिटोरियम का कार्य पूरा नहीं किया है। इसी बीच मूर्ति रखने पर उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस