देवरिया : गोरखपुर मंडल के संयुक्त निदेशक कृषि ओमवीर ने बुधवार को उप कृषि निदेशक कार्यालय में विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की। साथ ही योजनाओं से संबंधित अभिलेखों का बारीकी से अवलोकन भी किया। उन्होंने कृषि रक्षा अधिकारी के कम खर्चे को देखकर नाराजगी जताते हुए खर्च बढ़ाने का निर्देश दिया। इसके अलावा उन्होंने संकर धान बीज के प्रदर्शन का स्थलीय सत्यापन कर किसानों को तकनीकी जानकारी साझा की।

जेडी कृषि ने सबसे पहले सोलर पंप के अभिलेखों का अवलोकन किया, जिसमें अधिकारियों ने बताया कि सौ फीसद लक्ष्य को पूर्ण कर लिया गया है। इसके अलावा साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया। जिला कृषि रक्षा अधिकारी कार्यालय के अभिलेखों की समीक्षा में पाया कि कम खर्च किया गया है। उन्होंने जिला कृषि रक्षा अधिकारी रतन शंकर ओझा को खर्च को और बढ़ाने का निर्देश दिया। साथ ही उन्होंने जिले का भ्रमण कर धान में लगने वाले रोग के बारे में जागरूक करने तथा कौन सी दवा का छिड़काव करना है। इसकी जानकारी देने को कहा। जिला कृषि अधिकारी कार्यालय के समीक्षा के दौरान उन्होंने खाद की उपलब्धता के बारे में पूछा। डीएओ ने बताया कि जिले में पर्याप्त मात्रा में उर्वरक मौजूद है। उन्होंने डीएओ को किसी फर्टिलाइजर द्वारा जिले के बाहर खाद भेजने पर प्रतिबंध लगाने का निर्देश दिया। रबी फसल का सीजन आने वाले वाला है। अभी से खाद की उपलब्धता को सुनिश्चित कर लें। ताकि किसानों को खाद के लिए परेशान न होना पड़े। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के सदर विकास खंड के हाटा मस्टोडर गिरी का औचक निरीक्षण किया। जहां 71 किसानों द्वारा संकर धान बीज का प्रदर्शन पाया गया। उन्होंने प्रदर्शन का निरीक्षण करते हुए किसानों को तकनीकी जानकारी भी दी। इस दौरान उप कृषि निदेशक डा. एके मिश्र, जिला कृषि अधिकारी मोहम्मद मुजम्मिल, जिला कृषि रक्षा अधिकारी रतन शंकर ओझा, सलाहकार दिग्विजय नाथ ¨सह आदि उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran