देवरिया, जागरण संवाददाता। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ठकुराई गुट प्रांतीय नेतृत्व के आह्वान पर जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय परिसर में शिक्षकों ने गुरुवार को धरना दिया। 18 सूत्रीय मांगों के पूरा नहीं होने पर आंदोलन को और तेज करने की शिक्षकों ने चेतावनी दी। अंत में मुख्यमंत्री को संबोधित मांग पत्र जिला विद्यालय निरीक्षक को सौंपा गया।

प्रदेश अध्यक्ष जगदीश पांडेय ने कहा कि शिक्षा का बाजारीकरण देशहित में ठीक नहीं है। यह रुकना चाहिए। नई शिक्षा नीति शिक्षा को पूंजीपतियों और बाजार के हवाले कर रही है। एजुकेशनल टाउनशिप अलंकार योजना व प्रशासन योजना में परिवर्तन कर व जबरन लागू कर निजीकरण का मार्ग प्रशस्त किया जा रहा है। 

नई पेंशन योजना का पैसा शेयर मार्केट के हवाले कर दिया गया है। जिसका कोई भविष्य नहीं है। संगठन पुरानी पेंशन व्यवस्था, कैशलेस चिकित्सा जैसी कल्याणकारी योजनाओं को लागू करने की मांग कर रहा है। 10 अक्टूबर को शिक्षा निदेशालय लखनऊ पर आहूत धरने में सभी शिक्षकों को उपस्थित होने का आह्वान किया जा रहा है। 

प्रदेश उपाध्यक्ष डा. जेपी नायक ने कहा कि यदि हम एक साथ मिलकर संघर्ष करें तो किसी भी सरकार को हमारे समक्ष झुकना पड़ेगा। यहां धरना देने वालों में जिलाध्यक्ष कैप्टन जितेन्द्र सिंह, देवता राय, रमेश चन्द्र सिंह, रवीन्द्र रावत, ब्रह्म प्रकाश यादव, श्रीकांत यादव, जंगेश्वर सिंह, सुरेन्द्र यादव, राम अशीष यादव, योगेन्द्र सिंह, वंदना कुशवाहा, नीरज कुमार सिंह, रामचीज यादव, उपेन्द्र प्रसाद, अर्जुन दीक्षित, उपेन्द्र मिश्र आदि मौजूद रहे।

जांच में अनियमितता मिलने पर ग्राम पंचायत अधिकारी निलंबित

देवरिया। भाटपाररानी क्षेत्र के अजोरिया गांव की ग्राम पंचायत अधिकारी रेखा रानी को जांच के बाद दोषी पाए जाने पर जिला पंचायत राज अधिकारी ने निलंबित कर दिया है। उनके उपर आरोप लगाया गया था कि गलत तरीके से ग्राम पंचायत के धन का भुगतान किया जा रहा है। डीएम के निर्देश पर जिला पंचायत राज अधिकारी ने जांच किया। जांच में आरोप सही पाए जाने पर ग्राम पंचायत अधिकारी के निलंबन कर कार्रवाई की गई।

Edited By: Shivam Yadav