जागरण संवाददाता, देवरिया: जिला मुख्यालय पर पांच आक्सीजन प्लांट की स्वीकृति मिली है। तीन आक्सीजन प्लांट कार्य करना शुरू कर दिए हैं। दो अन्य जल्द ही कार्य करना शुरू करेंगे। ऐसे में जिला मुख्यालय पर अस्पताल में अब किसी भी मरीज की आक्सीजन के अभाव में जान नहीं जाएगी। आक्सीजन के मामले में जनपद समृद्ध हो गया है। एमसीएच विग में तीन आक्सीजन प्लांट लगाने की स्वीकृति मिली। जिसमें दो प्लांट तैयार है। तीसरा भी दो से तीन में कार्य करना शुरू कर देगा। जिला अस्पताल व महिला अस्पताल में भी एक-एक आक्सीजन प्लांट लगाने की स्वीकृति मिली थी। जिला अस्पताल में आक्सीजन प्लांट काम करना शुरू कर दिया है। महिला अस्पताल में प्लांट लगाने का काम पूरा कर लिया गया है। सिर्फ बिजली का कनेक्शन देना शेष है। यह प्लांट भी दो से तीन में कार्य करना शुरू कर देगा। पीआइसीयू का निर्माण कार्य भी तेज

जिला अस्पताल में 15 बेड पीआइसीयू के अलावा 20 बेड पीआइसीयू का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। एमसीएच विग कोविड अस्पताल में 100 बेड पीआइसीयू तैयार किया जा रहा है। तीसरी लहर से निपटने में यह अस्पताल कारगर साबित होंगे। जिला अस्पताल के 200 बेड पर मिलेगी आक्सीजन की सुविधा जिला अस्पताल के सभी 234 में 200 बेड तक पाइप लाइन के जरिए आक्सीजन पहुंचाया जाएगा। इसकी कार्य योजना बना कर कार्य किया जा रहा है। मेल मेडिकल वार्ड, चिल्ड्रेन वार्ड, सर्जिकल वार्ड के बेड पर आक्सीजन पाइप लाइन की सुविधा नहीं थी।

-

कोरोना महामारी जब चरम पर थी तो जिले में एक भी आक्सीजन प्लांट नहीं था। मौजूदा समय में पांच आक्सीजन प्लांट लग गए हैं। जिससे भविष्य में आक्सीजन की कमी नहीं होने पाएगी। कोरोना की तीसरी लहर अगर आती है तो आक्सीजन की कमी से किसी की जान नहीं जाएगी। डा. एएम वर्मा, प्रधानाचार्य, मेडिकल कालेज, देवरिया।

Edited By: Jagran