देवरिया : सदर कोतवाली के बरियारपुर स्थित छोटी गंडक नदी में शनिवार की शाम मूर्ति विसर्जन के दौरान एक युवक डूब गया। मछुआरों ने चौबीस घंटे तक प्रयास किया। रविवार की शाम युवक का शव पुलिस ने नदी से बरामद कर लिया। उधर आक्रोशित लोगों ने मुख्य मार्ग जाम कर प्रदर्शन किया। मौके पर पहुंची कोतवाली पुलिस ने समझा-बुझाकर शांत कराया। शव मिलने के बाद परिवार में मातम छा गया है।

कोतवाली के ग्राम बसडीला में गणेश मूर्ति रखी गई थी। शनिवार की शाम गांव के शैलेश राजभर पुत्र हरिश्चंद्र राजभर के साथ ही बड़ी संख्या में युवक मूर्ति विसर्जन के लिए बरियारपुर स्थित छोटी गंडक नदी पर पहुंचे। मूर्ति विसर्जन करने के बाद वह स्नान करने लगे। इस बीच शैलेश गहरे पानी में चला गया और डूबने लगा। यह देख उसके दोस्तों ने उसे बचाने का प्रयास भी किया, लेकिन वह सफल नहीं हो सके। इसके बाद शोर करने पर गांव से भी लोग आ गए और पूरी रात उसकी तलाश चलती रही। रविवार की सुबह एसडीएम रामकेश यादव व सदर कोतवाल विजय नारायण भी पहुंचे और मछुआरों को लगाकर खोजबीन शुरू कराई। शाम चार बजे तक शव न मिलने के बाद मछुआरे भी नदी के तट पर बैठ गए। यह देख आक्रोशित लोगों ने बरियारपुर चौराहे पर मुख्य मार्ग जाम कर दिया और पुलिस-प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन करने लगे। हालांकि कुछ ही देर बाद शव मिल गया। इस बीच पहुंची कोतवाली पुलिस ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया। उधर सपा के राष्ट्रीय महासचिव रमाशंकर विद्यार्थी मौके पर पहुंचे और परिजनों को ढांढस बंधाया। कोतवाल विजय नारायण ने कहा कि शव को कब्जे में ले लिया गया है।

Posted By: Jagran