देवरिया : बालू खनन घोटाले के रिकार्ड सीबीआइ की टीम एक सप्ताह से खंगाल रही है। गुरुवार को टीम ने बालू खनन घोटाले में दो बालू खनन कार्यालय के दो लिपिकों को तलब कर उनसे पूछताछ की और घोटाले के समय कौन-कौन कर्मचारी और अधिकारी तैनात रहे इसके बारे में अभिलेख तलब किए। साथ ही एआरटीओ से बालू खनन के सीज किए गए वाहनों की सूचना मांगी है। इसको लेकर खनन विभाग में हड़कंप मच हुआ है।

बसपा और सपा सरकार में हुए बालू खनन घोटाले की जांच करने सीबीआइ की टीम जिले में लंबे समय से जमी है। सीबीआइ टीम ने 2012 से 2017 के बीच हुए बालू खनन के पट्टे का रिकार्ड तलब किया है कि पट्टा आवंटन के समय कौन-कौन अधिकारी व कर्मचारी तैनात रहे। इन लोगों ने किन-किन घाटों का पट्टा किया। टीम यह भी रिकार्ड जुटाने में लगी हुई है कि पट्टा की अवधि समाप्त होने के बाद किन-किन घाटों पर अवैध बालू खनन का कार्य होता रहा। टीम ने इन दो लिपिकों से घंटों पूछताछ की। इसके अलावा सीबीआइ टीम ने एआरटीओ को नोटिस जारी कर सूचना मांगी है कि कितने बालू खनन वाहन सीज किए गए थे। इसकी सूचना एआरटीओ कार्यालय बनाने में जुटा हुआ है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस