(देवरिया): सोमवार को यहां गोपाल वाटिका में बरनवाल सेवा समिति द्वारा भगवान अहिबरन जयंती समारोह पूर्वक मनाई गई। इस अवसर पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए संगठन के जिलाध्यक्ष अरूण बरनवाल ने कहा कि वैश्य समाज के भगवान अहिबरन पुरोधा थे।

उन्होंने कहा कि बुलंदशहर ही प्राचीन में भगवान अहिबरन का राज्य था। जहां के राजा के रूप में उन्होंने कार्य कर समाज के सभी लोगों को लाभ पहुंचाया। उनके सराहनीय कार्य ही आज उन्हें भगवान के रूप में हमारे बीच स्थापित किया है। समारोह का उद्घाटन बतौर मुख्य अतिथि जिलाध्यक्ष श्री बरनवाल ने दीप प्रज्ज्वलन के साथ किया। समारोह में मोती बरनवाल, गणेश बरनवाल, हरि दयाल बरनवाल, शिवदयाल बरनवाल, हरि प्रसाद बरनवाल, जयनारायण बरनवाल, ज्ञानी चंद बरनवाल, ईश्वर चंद्र बरनवाल, दिलीप बरनवाल, विशाल बरनवाल, सन्नी बरनवाल, अनुराग बरनवाल, विनय बरनवाल, अंगद बरनवाल, शीतल बरनवाल, राजेश बरनवाल, धनंजय बरनवाल, शालू, तृप्ति, स्नेहा, जयंत, आदिति, खुशी, किशन, मानसी ने प्रमुख रूप से हिस्सा लिया। यहां गीत व नृत्य सहित विविध मनमोहक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। समारोह के प्रारंभ में भगवान अहिबरन की शोभा यात्रा दुर्गा मंदिर परिसर से निकाली गयी, जो मुख्य मार्ग होते हुए गोपाल वाटिका तक पहुंची। शोभा यात्रा में बड़ी संख्या में हाथी व घोड़ा शामिल रहे।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर