जागरण संवाददाता, चित्रकूट : सोमवार को समस्या लेकर बीडीओ कार्यालय पहुंचे ग्रामीणों की अफसरों से कहासुनी हो गई। पहले काफी देर तक हंगामा व नारेबाजी होती रही। इसके बाद मामला हाथापाई तक पहुंच गया। तीखी नोकझोंक भी हुई। बीडीओ ने ग्रामीणों पर हाथापाई, सरकारी कार्य में बाधा डालने व अभिलेख फाड़ने का मुकदमा दर्ज कराया है।

चित्रकूट के कर्वी ब्लाक अंतर्गत खोह गाव के लोग सोमवार दोपहर के बाद सदर कोतवाली के सामने स्थित खंड विकास अधिकारी के कार्यालय पहुंचे। यहा ग्रामीणों ने गाव में समस्याओं और प्रधानमंत्री आवास के तहत अपात्रों को धनराशि देने पर नाराजगी जताई। यहां बातचीत के दौरान ही कहासुनी होने लगी। इस पर ग्रामीणों ने नारेबाजी करते हुए हंगामा शुरू कर दिया। आरोप है कि ग्रामीणों ने बीडीओ कुलदीप सिंह के साथ हाथापाई कर दी। इससे पहले ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट में भी प्रदर्शन किया। बाद में ग्रामीण प्रदर्शन करने के बाद वापस लौट गए। खंड विकास अधिकारी ने ग्रामीणों के खिलाफ सरकारी कार्य मे बाधा, अभिलेख फाड़ने व अभद्रता करने का मुकदमा कोतवाली में दर्ज कराया है। इसमें दस लोगों को नामजद किया गया है। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करके मामले की जाच शुरू कर दी है।

- - - - - - - - -

अपात्रों के खिलाफ नोटिस पर भड़के

गाव में कुछ अपात्रों को प्रधानमंत्री आवास आवंटित करने की जानकारी पर बीडीओ ने नोटिस जारी किए थे। इसके बाद ग्रामीणों ने कुछ लोगों की शह पर प्रधान व बीडीओ के खिलाफ नारेबाजी की। इसी दौरान घटना हुई। हालाकि ग्रामीणों का कहना है कि वह लोग ज्ञापन देने गए थे। हाथापाई और अभिलेख फाड़ने की बात पूरी तरह गलत है।

Posted By: Jagran