जागरण संवाददाता, चित्रकूट : सरकार ने अब दोपहिया वाहन में पीछे बैठने वाली सवारी के लिए भी हेलमेट की अनिवार्यता कर दी है लेकिन धर्म नगरी चित्रकूट में यह फरमान बेअसर है। यहां पर मुख्य बाइक चालक भी हेलमेट लगाने में खुद की तौहीन समझते हैं जबकि यह उनकी जिदगी से जुड़ा सवाल है। यहां पर 25 फीसद के आसपास बाइक चालक हेलमेट का इस्तेमाल करते हैं जबकि बाकी ऐसे ही फर्राटा भरते हैं। इससे पिछले दिनों तमाम दुर्घटनाएं भी हो चुकी हैं। अब जागरूक होने की जरूरत है वर्ना कीमती जिदगी ऐसे ही अनचाहे काल का ग्रास बनती रहेगी। एक नवंबर से है अनिवार्यता

अभी तक बाइक चालक को हेलमेट अनिवार्य था लेकिन सरकार ने एक नवंबर से बाइक, स्कूटी व स्कूटर में पीछे बैठने वाले को भी हेलमेट लगाने के लिए फरमान जारी किया है। ऐसा नहीं करने पर जुर्माना अदा करना होगा। सरकार ने यह नियम दुर्घटनाओं को रोकने के लिए बनाया है, क्योंकि अधिकांश हादसों में सिर पर चोट से लोगों को सबसे अधिक मौतें होने की बात सामने आ चुकी है। अभी सख्ती भी बेअसर

चालकों को हेलमेट लगाने की अनिवार्यता के बाद पुलिस ने सख्ती दिखाई। पंप पर बिना हेलमेट पेट्रोल-डीजल देने पर पाबंदी लगाई गई लेकिन हालात बेअसर हैं। कुछ जगहों पर पेट्रोल पंप संचालकों ने आदेश का पालन कराया लेकिन ज्यादातर उसी ढर्रे पर चल रहे हैं। पेट्रोल लेने पर न कोई हेलमेट पूछता है और न किसी का चालान हो रहा है। बिना हेलमेट जिले में वाहन दौड़ाए जा रहे हैं। कुछ में हुआ सुधार

वैसे, कुछ जागरूक लोगों ने नियम पर काम शुरू कर दिया है। करीब 25 फीसद का आंकड़ा ऐसे लोगों का है। इसमें अभी और सुधार की जरूरत है। सरकार के सख्त कानून के बाद भी लोगों में डर नहीं है। अब कुछ यूं लगेगा जुर्माना

-बिना हेलमेट बाइक चलाने पर : एक हजार

-जानबूझ कर नियम का पालन न करना : दो हजार

-दो से अधिक सवारी बैठाने पर : एक हजार

आंकड़ों की नजर में

दो पहिया वाहन : 20 हजार

हेलमेट प्रयोग करने वाले : 5 हजार

छह माह में हादसे में मौतें : 65 इनका कहना है

यातायात नियमों के पालन के लिए प्रतिदिन अभियान चलाया जा रहा है। अब चालान को लेकर सख्ती बरती जाएगी ताकि लोग नियम का पालन करें।

-योगेश कुमार यादव, जिला यातायात प्रभारी चित्रकूट।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस