संवाद सहयोगी, मानिकपुर (चित्रकूट) : बुधवार सुबह खोवा कारोबारी को जंगल से असलहों से लैस बदमाशों के उठाने के बाद फिरौती का कोई फोन नहीं आने से रंजिश में वारदात की पुष्टि हो रही है। छानबीन में अवैध संबंधों और आपसी रंजिश का मकड़जाल भी पुलिस को मिला है। उधर ग्रामीण और स्वजन डकैतों के वारदात करने की बात कह रहे हैं। पुलिस सभी बिदुओं पर पड़ताल कर रही है।

पुलिस को मृतक खोवा कारोबारी की करीबी रिश्तेदारी की एक महिला से अवैध संबंध पता चले हैं। बताते हैं कि इसको लेकर पहले कहासुनी भी हुई थी। बुधवार सुबह जिस तरह तमंचों की नोक पर उसको उठाने के बाद जंगल ले जाकर गोली मारकर हत्या कर दी गई, उससे इस बात को बल भी मिला है। पुलिस के मुताबिक हत्या शव मिलने के करीब पांच घंटा पहले हुई। 12 बोर के तमंचे से गुप्तांग व कनपटी के पास मारी गोली

खोवा कारोबारी को 12 बोर के तमंचे से गुप्तांग के पास जांघ में गोली मारी गई। इसके साथ कमर में भी एक गोली लगी है। एक गोली सिर पर भी मारने की बात सामने आई है। घटनास्थल पर 12 बोर तमंचे के कारतूस का एक खोखा भी पुलिस ने बरामद किया है। मृतक का मोबाइल भी वहीं पास में पड़ा मिला है। उसी पर लगातार घंटी बजने के कारण पुलिस भी अपहरण की बात मानकर जंगली में खोजबीन करती रही। सर्विलांस से मिली सटीक लोकेशन

डकैतों के खोवा व्यापारी के अपहरण करने की बात पता चलने पर जंगल में उतरी पुलिस टीमों ने सर्चिंग अभियान के दौरान सर्विलांस का इस्तेमाल कर शव ढूंढने में सफलता पाई। लगातार फोन मिलाने पर भी कोई जवाब नहीं मिलने पर आशंका भी बढ़ गई थी। शाम पांच बजे शव मिलने के बाद आशंका सच साबित हुई। कहीं दहशत फैलाने के लिए वारदात तो नहीं

मानिकपुर तहसील के पाठा क्षेत्र में साढ़े छह लाख रुपये के इनामी डकैत गैंग बबुली कोल के खात्मे के बाद नवोदित डकैत गैंग के दहशत का माहौल बनाने को लेकर वारदात करने की आशंका भी है। ग्रामीणों के बीच इसको लेकर चर्चाएं रहीं। कहा कि करीब आधा दर्जन लोग तमंचे व रायफल लेकर क्षेत्र में घूमने की बातें पुलिस को बताई गईं पर ध्यान नहीं दिया गया। संभवत: नवोदित गैंग ने खुद की दहशत फैलाने के लिए वारदात की हो। हालांकि एसपी अंकित मित्तल ने ऐसी किसी संभावना से साफ इन्कार किया। कहा कि वारदात डकैतों ने नहीं की है। रंजिश व अवैध संबंधों से जुड़ा मामला है। 24 घंटे में सच्चाई सामने आ जाएगी। स्वजन का रंजिश व संबंधों से इन्कार

मृतक खोवा कारोबारी के स्वजन ने अवैध संबंधों और रंजिश में वारदात की बात से साफ इन्कार किया। कहा कि डकैत गैंग ने अपहरण करने के बाद गोली मारकर हत्या की है लेकिन फिरौती का फोन नहीं आने की बात का उनके पास भी कोई जवाब नहीं है। पत्नी प्रतिमा ने बताया कि सुबह फोन मिलाने पर पति ने बताया कि कुछ बदमाश लोग तमंचे की नोक पर उनको जंगल की ओर ले जा रहे हैं। पत्नी समेत रिश्तेदारों, परिचितों की भीड़ जुटी। सभी की चीख-पुकार से ग्रामीणों की आंखें नम हो गईं। मृतक के दो बेटे संजीव व अनुराग हैं। संजीव दुकान में मदद करता है जबकि अनुराग दिल्ली में निजी कंपनी में नौकरी करता है। बेटी नीरू की शादी झांसी क्षेत्र में हो चुकी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस