संवाद सहयोगी, मानिकपुर (चित्रकूट) : चित्रकूट से करीब 40 किमी दूर मानिकपुर तहसील अंतर्गत स्थित शबरी जलप्रपात इन दिनों यहां आने वाले सैलानियों और स्थानीय लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बना है। पाठा के जंगलों की वादियों में यह जल प्रपात बारिश के समय पूरे निखार में है। 40 फीट ऊपर से कुंड में गिर रही जलराशि बादलों का अहसास करा रही है। इसे देख हर कोई मंत्रमुग्ध हो जाता है।

चित्रकूट जिले से सटे मध्यप्रदेश के सतना जिला अंतर्गत मझगवां से मानिकपुर जाने वाली रोड पर जमुनिहाई-बंबयिा जंगल में शबरी जल प्रपात स्थित है। बारिश की शुरुआत होने के बाद से करीब आठ माह तक इस जल प्रापत की छटा मनोहारी रहती है। प्रत्येक वर्ष जुलाई से यहां पर बड़ी संख्या में पर्यटक प्रकृति के इस अनुपम उपहार को निहारने के लिए पहुंचते हैं। धीरे-धीरे यह पिकनिक स्पाट बन चुका है। आसपास जिलों के लोग भी पहुंच रहे हैं। दैनिक जागरण ने यहां की बदहाली को लेकर मुद्दा उठाया था। इसके बाद जिला प्रशासन व वन विभाग ने पर्यटकों की संख्या बढ़ने को लेकर यहां विकास कार्य भी कराए। प्रपात तक पहुंचने के लिए पक्की सड़क बनी है। एसडीएम मानिकपुर प्रमेश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि 15 दिन पहले प्रपात में तीन युवकों की डूबकर मौत हो गई थी। हालांकि, अब सुरक्षा के इंतजाम करने संग लोगों को सचेत करने के लिए बोर्ड भी लगाए गए हैं। साथ ही पुलिस भी तैनात की गई है। कुछ सालों में पर्यटन विभाग की मेहनत के बाद यहां बड़ी संख्या में लोग आने लगे हैं।

Edited By: Jagran