चित्रकूट, जेएनएन। बुंदेलखंड के कुख्यात डकैत बबुली कोल के गैंग की गिरफ्त से किसान छह दिन बाद छूटने में सफल रहा। इसके लिए किसान को पांच लाख रुपया फिरौती देनी पड़ी। बुधवार देर रात घर पहुंचा किसान अभी भी दहशत में है।

चित्रकूट की सीमा से सटे मध्य प्रदेश के सतना जिला अंतर्गत धारकुंडी थानाक्षेत्र के हरसेड़ गांव से अपहृत किसान पांच दिन बाद बुधवार रात को घर पहुंच गया। डकैतों को पांच लाख रुपये फिरौती की रकम देकर छूटने की बात सामने आई है। उधर पुलिस का दावा है कि लगातार दबाव बनाने पर डकैत गैंग से बचकर किसान भाग आया है। डकैतों की दहशत की वजह से फिलहाल किसान व परिवार के लोग कुछ भी बोल नहीं रहे हैं।

शनिवार की रात किया था अपहरण

छह लाख रुपये के इनामी डकैत बबुली कोल गैंग ने शनिवार रात दो बजे किसान अवधेश द्विवेदी का अपहरण किया था। पांच लाख रुपये की फिरौती की रकम लेने के बाद किसान को धारकुंडी जंगल में डकैत छोड़ गए, जहां से वह पैदल चल कर अपने घर गुरुवार तड़के तीन बजे पहुंच गया। इससे परिजनों के चेहरे पर संतोष के भाव नजर आए। पुलिस का दावा है कि दबाव में उसे छोड़ा गया है। इस बारे में फिलहाल परिजन भी कुछ नहीं बोल रहे हैं।

यूपी-एमपी के जंगलों में बदलते रहे ठिकाना

अपहृत किसान के कुछ करीबियों ने दबी जुबान बताया कि इनामी डकैत बबुली कोल गैंग यूपी के मारकुंडी के लखनपुर, डोडामाफी के साथ निही चरैया और एमपी के धारकुंडी समेत आसपास पकड़ लेकर घूमता रहा। करीब 15 किलोमीटर के दायरे में गैंग के सदस्य घने जंगल में पैदल चलाते रहे। कुछ मध्यस्थों की मदद से 50 लाख की जगह पांच लाख की फिरौती देकर छूट सके।

पुलिस के शिकंजा नहीं कसने से गैंग फिर सक्रिय

पाठा के यूपी-एमपी क्षेत्र में एक दशक से अधिक समय से सक्रिय छह लाख के इनामी डकैत बबुली कोल की गतिविधियां पुलिस निष्क्रियता से फिर बढ़ी हैं। एक पखवाड़े में दो किसानों का उसने अपहरण कर फिरौती वसूली। यूपी चित्रकूट के मानिकपुर व एमपी सतना के धारकुंडी में वारदात की लेकिन पुलिस सिर्फ कांबिंग तक सीमित है। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस