जागरण संवाददाता, चित्रकूट : मकर संक्रांति पर तपोभूमि में दर्जनों जगह मेला लगता है मंदाकिनी सहित भरतकूप में स्नान को लोगों को हुजुम नजर आया। वैसे कुछ लोगों ने शुक्रवार को पर्व मनाया था लेकिन शनिवार को मुहूर्त के अनुसार स्नान है। मकर संक्रांति पर स्नान के लिए लोगों ने कोरोना की कोई परवाह नहीं की।

मकर संक्रांति पर भरतकूप व साईंपुर में एतिहासिक मेला हजारों की भीड़ रही। पौराणिक भरतकूप में स्नान के लिए लोगों में होड़ नजर आई। भोर से बड़ी संख्या में लोग कूप में इकट्ठा हो गए थे। एक बाल्टी पानी में कई-कई लोग स्नान कर रहे थे। यह सिलसिला सारा दिन चला। मेला में आए लोगों ने झूले और चाट पकौड़ी का लुफ्त उठाया तो महिलाओं ने सौंदर्य प्रसाधन की वस्तुएं खरीदी। वहीं साईंपुर स्थित मजार पर मुस्लिमों ने खिचड़ी दान किया। नगर के मंदाकिनी नदी के पुल और सुंदर घाट पर मेले में बड़ी लोग पहुंचे। पहाड़ी के सगवारा में भी मेला लगा। राजापुर व मऊ कस्बे में लोगों ने ने यमुना नदी में स्नान कर खिचड़ी दान किया। मानिकपुर में धारकुंडी आश्रम, मारकंडेय आश्रम, शबरी जल प्रपात, बरगढ़ के परानू बाबा आश्रम सहित अन्य तीर्थ स्थलों पर भी मेला लगा। डीएम शुभ्रांत कुमार शुक्ल ने शुक्रवार की शाम को भरतकूप मेला क्षेत्र का जायजा लिया था। मेला स्थलों पर सुरक्षा व्यवस्था के लिए मजिस्ट्रेटों की ड्यूटी लगाई थी, लेकिन ज्यादातर स्थानों पर अधिकारी नजर नहीं आए। यही हाल प्रमुख स्थलों पर पुलिसकर्मियों का भी रहा। जबकि इन अधिकारियों को कोरोना प्रोटोकाल का पालन कराने के लिए लगाया गया था। कोई भी श्रद्धालु मास्क नहीं लगाए था। शारीरिक दूरी का कोई सवाल ही नजर नहीं आया। भरतकूप चौराहा में लगा रहा घंटों जाम

भरतकूप में जबरदस्त मेला रहा। मंदिर से दो किलोमीटर दूर चौराहा में उसका असर देखने को मिला। मेला के कारण घंटों झांसी-मीरजापुर हाईवे पर जाम रहा। जिसमें दर्जनों वाहन फंसे रहे।

Edited By: Jagran