जासं, सकलडीहा (चंदौली) : सितम्बर माह में मूसलाधार बरसात के बाद पानी से भरे खेतों में जलनिकासी नहीं हो पा रही है। इससे धान की फसल बर्बाद होते देख किसानों का आक्रोश बढ़ता जा रहा है। किसानों ने सोमवार को तहसील प्रशासन व सिचाई विभाग के खिलाफ विरोध जताया। बाहा और ड्रेनों की सफाई की मांग की।  

बथावर से बहरवानी तक जाने वाली ड्रेन व बाहा घास फूस के चलते जाम है। कई जगह मछली मारने के लिये ग्रामीणों ने पानी रोक रखा है। इससे बथावर, सरेहुआ, ताजपुर, घरचित, दरियापुर, तेन्दुई व सकलडीहा ग्राम सभा की दो सौ एकड़ फसल जलमग्न है। शिकायत के बाद भी सिचाई विभाग और तहसील प्रशासन मौन साधे है। बर्बाद हो रही फसलों को बचाने को लेकर दर्जनों किसानो ने प्रशासन के खिलाफ विरोध जताया। ड्रेन व बाहा की सफाई के साथ बारिश में ढह गए मिट्टी के रिहायशी मकानों का मुआवजा देने ने की मांग की। विनोद सिंह, अभिनव सिंह, रवींद्र प्रताप, दशरथ चौहान, हीरा, श्यामादेवी, चन्द्रमा, कल्लू, मुन्नी, सुदामा, रणवीर आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस