जागरण संवाददाता, पीडीडीयू नगर (चंदौली) : जीआरपी व आरपीएफ के जवानों ने सोमवार को जंक्शन से 50 किलो चांदी बरामद की। पकड़े गए दोनों युवक सगे भाई हैं। उनके पास चांदी का कोई कागजात नहीं था। दोनों हावड़ा-जोधपुर एक्सप्रेस ट्रेन से जंक्शन पहुंचे थे। वाराणसी के व्यापारियों को आभूषण को बेचने की बात स्वीकार की। दोनों केवल रोड के चालान के अलावा कोई कागजात नहीं दिखा सके।

सुरक्षा एजेंसियों ने मामले की जानकारी वाणिज्य कर विभाग वाराणसी के अधिकारियों को दी। अधिकारियों ने अपने स्तर से पूछताछ की और फिर बरामद चांदी व आरोपितों को लेकर अपने साथ वाराणसी चली गई। जीआरपी व आरपीएफ कर्मी जंक्शन पर चेकिग कर रहे थे। जब वे प्लेटफार्म नंबर सात पर पहुंचे तो दो व्यक्ति पिट्ठू बैग लेकर खड़े थे। संदेह होने पर दोनों से पूछताछ शुरू की गई। पुलिस कर्मियों को देखकर वे दोनों घबरा गए और कुछ भी बताने से इंकार करने लगे। जब बैग की जांच की गई तो चांदी निकली। पूछताछ करने पर दोनों ने बताया कि आभूषण को वाराणसी में अलग-अलग ज्वेलरी दुकान पर बेचने के लिए वह वाराणसी जाने के प्रयास में थे। उक्त व्यक्तियों के पास से बरामद आभूषण से संबंधित कागजात मांगने पर उनके द्वारा केवल केवल रोड चालान का पेपर दिखाया गया। क्रय विक्रय के संबंध में कोई कागजात प्रस्तुत नहीं कर सके। आरपीएफ पोस्ट प्रभारी संजीव कुमार व जीआरपी इंस्पेक्टर आरके सिंह ने बताया कि गिरफ्तार व्यक्ति ग्राम हेरिया, थाना मोर हाट, जिला साउथ 24- परगना पश्चिम बंगाल निवासी शिवनाथ दास व जयदीप दास हैं। दोनों भाई हैं आभूषण के कारीगर

चांदी लेकर जा रहे दोनों भाई शिवनाथ दास व जयदीप दास आभूषण के कारीगर हैं। उनके बैग में निर्मित चांदी के आभूषण उनके द्वारा बनाए गए हैं। वह आभूषण को वाराणसी में अलग-अलग ज्वेलरी दुकान पर बेचने जाने के लिए वाराणसी जाने के प्रयास में थे। आभूषण में सिंहासन, बिछिया, बच्चों का कड़ा, नारियल, पद मीणा कड़ा थे।