जासं, चंदौली : केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने कहा कि 12 साल या इससे कम उम्र की बच्चियों के साथ दुष्कर्म ¨नदनीय है। यह समाज के लिए कलंक है। ऐसी घटनाओं में लिप्त लोगों पर पास्को नहीं मौत की सजा का प्रावधान होना चाहिए। इसके लिए कानून बनाया जाए, ऐसा प्रस्ताव वह सरकार के समक्ष रखेंगी। श्रीमती गांधी शुक्रवार को कलेक्ट्रेट में जिले के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए आयोजित समीक्षा बैठक के बाद पत्रकारों से मुखातिब थीं।

उन्होंने जम्मू के कठुआ में आठ साल की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म के सवाल पर उक्त जवाब दिया। कहा कि ऐसी घटना दुखद और शर्मनाक है। उन्नाव कांड पर उन्होंने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार इस मामले को लेकर काफी गंभीर हैं। इसमें कठोर कार्रवाई की गई और सीबीआइ जांच कर रही है। कब तक मामले की होगी जांच इस सवाल पर श्रीमती गांधी ने कहा कि मीडिया चाहती है दो मिनट में कार्रवाई हो जाए, ऐसा नहीं होता है सरकार इस मामले को लेकर स्वयं गंभीर है। भाजपा विश्व की सबसे बड़ी पार्टी है, एक दो अपवाद के आधार पर पूरी पार्टी को दोषी नहीं ठहराया जा सकता। गलत लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाती है। उपवास पर उन्होंने कांग्रेसियों को खुद अपने गिरेबान में झांकने की नसीहत दी और कहा कि कांग्रेस ने संसद में क्या किया। देश का बहुत बड़ा नुकसान किया, कोई बिल पास नहीं होने दिया, उसके बाद भी अपना वेतन ले लिया। कांग्रेस का नैतिक पतन हो रहा है। राहुल और प्रियंका के कैंडिल मार्च के सवाल पर वह चुप्पी साध गई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस