वीरकेश्वर पाठक, चंदौली

------------------

धान के कटोरे में सहकारी समितियों के जर्जर गोदामों के दिन जल्द ही बहुरने वाले हैं। शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन ने गोदामों की मरम्मत को एक करोड़ का प्रस्ताव बनाकर भेज दिया है। बजट आवंटित होते ही गोदामों की मरम्मत का काम शुरू करा दिया जाएगा। इससे खाद व अनाज के भंडारण में सहूलियत होगी। साथ ही अन्नदाताओं को समय से खाद का वितरण भी कराया जा सकेगा।

कृषि प्रधान जनपद में सहकारी समितियों के गोदामों की हालत दयनीय है। दशकों पूर्व निर्मित गोदामों की मरम्मत का ध्यान नहीं रखा गया। इसके चलते छत टूट गई। साथ ही दीवारें भी जर्जर हाल हैं। ऐसे में गोदामों में खाद व अनाज का भंडारण करने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। सबसे अधिक दिक्कत अनाज क्रय के समय होती है। बारिश के दौरान किसानों से खरीदा गया अनाज खुले आसमान के नीचे रखने के चलते सड़कर नष्ट हो जाता है। इससे क्रय एजेंसियों को नुकसान झेलना पड़ता है। किसानों के भुगतान में भी बाधा आती है। शासन ने समस्या को गंभीरता से लेते हुए गोदामों के मरम्मत की पहल की है। इसके लिए जिला प्रशासन को पत्र भेजकर प्रस्ताव मांगा गया था। सीडीओ की ओर से सहकारी समितियों के खस्ताहाल गोदामों की ब्लाकवार सूची तैयार कर उपलब्ध करा दी गई है। इनकी मरम्मत के लिए एक करोड़ रुपये का प्रस्ताव भेज दिया गया है। जल्द ही शासन से प्रस्ताव को मंजूरी मिलने की संभावना है। इन गोदामों के लिए भेजा प्रस्ताव

सदर ब्लाक के हलुआ, बजहां, बरहनी के कम्हरियां, पिपरीभैसा, नियामताबाद के पचोखर, कठौड़ी, चकिया के चकिया, रामपुर कला, शहाबगंज के सिघरौल, खरौझां, नौगढ़ के बोझ व नौगढ़, सकलडीहा के तेंदुई ताजपुर, सलेमपुर, चहनियां के कैथी, रामगढ़ और धानापुर ब्लाक के रामपुर व अवहीं स्थित सहकारी समितियों के जजर्र गोदामों की मरम्मत को प्रस्ताव भेजा गया है। ''सहकारी समितियों के जर्जर गोदामों की मरम्मत के लिए शासन से प्रस्ताव मांगा गया था। जिले की 18 समितियों के गोदामों के मरम्मत के लिए एक करोड़ का प्रस्ताव भेजा गया है। प्रस्ताव को स्वीकृति मिलते ही मरम्मत का काम शुरू करा दिया जाएगा।''

-डा. एके श्रीवास्तव, सीडीओ।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप