जागरण संवाददाता, पीडीडीयू नगर(चंदौली) : कोरोना संक्रमण के काले साये के बीच दुर्गापूजा की परंपरा पूजा समितियों ने बरकरार रखी। नगर के आधा दर्जन स्थानों पर छोटा सा पंडाल स्थापित कर गुरुवार की रात दुर्गा प्रतिमा स्थापित की गई। पूजा के बाद पट खोला गया। श्रद्धालुओं को शारीरिक दूरी का पालन कराने के लिए पंडाल व बाहर जाने के लिए बैरिकेडिग की गई है। हालांकि हर बार की तरह पूजा में उमड़ने वाली भीड़ कम रही। तीन दिनों तक देवी मां की आराधना के बाद प्रतिमाएं विसर्जित की जाएंगी।

शारदीय नवरात्र की सप्तमी, अष्टमी व नवमी को मां दुर्गा के पूजा की धूम रहती है। कोरोना संक्रमण के कारण कुछ स्थानों पर ही पंडालों को बनाने की अनुमति दी गई है। साथ ही भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पूजा समितियों की ओर से प्रबंध किया गया है। पंडालों में मां दुर्गा सहित अन्य देवी देवताओं की प्रतिमा स्थापित कर दी गई है। नगर के अलीनगर रामजानकी मंदिर, मानस नगर कालोनी, सेंट्रल कालोनी, अमोघपुर सहित अन्य स्थानों पर बने पंडालों में मां दुर्गा सहित अन्य देवी देवताओं की प्रतिमाएं स्थापित की गई हैं। गुरुवार की रात पूजन अर्चन के बाद मूर्तियों का पट खोल दिया गया। पंडालों में दर्शन पूजन के लिए श्रद्धालु आते रहे। इंडियन इंस्टीच्यूट मेला न लगने से रंगत रही फीकी

कोरोना से लोगों को बचाने के लिए एक स्थान पर अधिक भीड़ एकत्र नहीं होने दिया जा रहा है। इसी कारण हर साल दुर्गापूजा पर जनपद भर में मशहूर रेलवे के इंडियन इंस्टीच्यूट कालोनी में लगने वाला मेला नहीं लग सका। मेला न लगने के कारण रंगत फीकी रही। खिलौने वालों सहित कई दुकानदार निराश रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप