जागरण संवाददाता, चंदौली : घूमंतू व बेसहारा बच्चों को आश्रय दिलाने व उनकी किस्मत संवारने के लिए चाइल्ड लाइन की ओर से दोस्ती पखवारा चलाया जा रहा है। चाइल्ड लाइन से दोस्ती कर आमजन भी अपने आसपास बाल मजदूरी में फंसे अथवा कूड़ा उठाने वाले बेसहारा बच्चों की तकदीर संवार सकते हैं। विभाग की ओर से जागरूकता के लिए हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। सीडीओ डा. एके श्रीवास्तव ने गुरुवार को विकास भवन में बैनर पर हस्ताक्षर अभियान को लेकर प्रतिबद्धता दिखाई।

'चाइल्ड लाइन से दोस्ती' अभियान 20 नवंबर को अंतरराष्ट्रीय बाल दिवस तक चलेगा। विभाग की ओर से इस दौरान पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मिलकर नगरीय व ग्रामीण इलाकों में अभियान चला रहा है। थाना स्तर पर कार्यक्रम आयोजित किए जाने हैं। वहीं ब्लाक स्तर व ग्रामीण इलाकों में भी अभियान चलेगा। चाइल्ड लाइन के अधिकारी-कर्मचारी शिविर में लोगों को जागरूक करेंगे। सीडीओ ने पहल की तारीफ की। बोले, बंधुआ मजदूरी व बाल श्रम को लेकर हमेशा शिकायतें मिलती रहती हैं। इस पर कड़ाई के साथ लगाम लगनी चाहिए। बच्चों का शिक्षा व बेहतर जीवन पर अधिकार है। यदि कोई इसे छीन रहा है तो उसके खिलाफ कार्रवाई जरूरी है। चाइल्ड लाइन के जिला समन्वयक शशांक दुबे ने बताया विभाग की ओर से समय-समय पर अभियान चलाया जाता है। बाल संरक्षण के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है। वहीं बंधुआ मजदूरी व बाल श्रम में फंसे बच्चों को मुक्त भी कराया जाता है। सरकार की ओर से तमाम तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं। यदि किसी बच्चे को बीमार व असहाय देखें तो हेल्पलाइन नंबर 1098 पर फोन कर सूचित करें। बच्चों का किसी तरह से उत्पीड़न व चिढ़ाना भी अपराध की श्रेणी में आता है। सुनील सिंह, राधा शर्मा, रंजना, आशीष आदि मौजूद थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021