बुलंदशहर, जेएनएन: कोतवाली क्षेत्र के करेना गांव में एक युवक ने पुलिस के खौफ से आत्महत्या कर ली। पुलिस से युवक के परिजनों ने गाली-गलौच की। परिजनों का आरोप है कि पुलिस युवक का एनकाउंटर करना चाहती थी। मौके पर पहुंची कई थानों की पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित किया।

गुरुवार रात करेना निवासी जयकिशन (25) पुत्र श्योराज सिंह ने खुदकशी कर ली थी। इसकी सूचना गांव के ही प्रमोद ने परिजनों को दी। वहां पहुंची पुलिस को गुस्साए परिजनों ने शव नहीं उठाने दिया। वहां के हालात भांपकर पुलिसकर्मियों ने इसकी सूचना उच्चाधिकारियों को दी। मृतक के पिता श्योराज व अन्य परिजनों का आरोप था कि कोतवाली पुलिस पिछले कई दिनों से घर पर दबिश दे रही थी। गुरुवार दोपहर को भी पुलिस ने जयकिशन को पकड़ने के लिए खेत पर दबिश दी थी। पुलिस को देखकर वह रामपुर नदी में कूद कर भाग गया था। इसके बाद पुलिस ने घर पर दबिश दी। मृतक के भाई जगबीर की पत्नी आरती का आरोप था कि पुलिस महिलाओं को अल्टीमेटम देकर गई थी कि अगर जयकिशन को थाने नहीं पहुंचाया तो उसका एनकाउंटर कर देंगे। सुरक्षा की दृष्टि गांव में सीओ धनप्रकाश त्यागी, कोतवाल उदय प्रताप सिंह समेत काफी संख्या में पुलिस फोर्स मौजूद रहा। मृतक के भाई जितेंद्र की सूचना पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया।

मूंछ वाले दारोगा को सामने लाओ

जयकिशन का शव शुक्रवार को जब गांव पहुंचा तो घर की महिलाओं ने रोते हुए बस एक बात कही कि मूंछ वाले दारोगा को एक बार सामने ले आओ। हम सबक सिखा देंगे। आरोप है कि दारोगा ने महिलाओं और जयकिशन का उत्पीड़न किया था।

इनका कहना है..

नौ नवंबर को गांव में ही यूनुस की हत्या हुई थी। इसमें पुलिस जयकिशन से पूछताछ करना चाहती थी। जयकिशन आपराधिक किस्म का व्यक्ति था और उसके खिलाफ चोरी, हत्या के प्रयास संबंधित कई मुकदमे शिकारपुर एवं सलेमपुर थाने में दर्ज हैं। शव का गांव में अंतिम संस्कार कर दिया गया है।

- उदय प्रताप सिंह, कोतवाली प्रभारी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस