बुलंदशहर, जेएनएन। स्याना में हुए खूनी बवाल की न्यायिक जांच और निदोर्षों के उत्पीडऩ बंद करने की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे अखिल भारतीय संत परिषद के राष्ट्रीय संयोजक यति नरसिंहानंद सरस्वती ने मंगलवार को प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को खून से पत्र लिखा। उन्होंने कहा कि जब तक न्यायिक जांच नहीं होगी, उनका अनशन जारी रहेगा।
सुमित के पिता भी साथ
उनके साथ अनशन पर बवाल में मारे गए सुमित के पिता अमरजीत भी बैठे हैं। अमरजीत ने यति नरसिंहहानंद सरस्वती पर विश्वास जताते हुए कहा कि जब तक उन्हें न्याय नहीं मिलेगा वे उनके साथ धरने पर बैठे रहेंगे। उधर, स्याना कोतवाली प्रभारी केपी सिंह ने बताया कि सोमवार रात्रि वे पुलिस फोर्स के साथ गश्त पर रहे थे। उसी समय मुखबिर ने सूचना दी कि नगर निवासी कुछ लोग जिप्सी में गोकशी करने के इरादे से नगर स्थित संस्कार फार्म हाउस के निकट खड़े हैं। उन्होंने स्याना निवासी तीन आरोपितों नदीम, रईस और काला कुरैशी को दबोच लिया।
गोकशी के आरोपित गिरफ्तार
पुलिस का दावा है कि उक्त तीनों ने 2 व 3 दिसंबर की रात्रि महाव और एक दिसंबर की रात्रि नया बांस में गोकशी की घटना को अंजाम दिया है। आरोपितों के कब्जे से एक दो नाली बंदूक, मारुति जिप्सी व गोकशी करने के ओजार भी बरामद हुए है। उधर, बवाल का मुख्य आरोपित योगेश राज अब भी फरार है।

Posted By: Ashu Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस