बुलंदशहर, जेएनएन। अरनिया थाना पुलिस ने एक ऐसी वारदात का राजफाश किया है, जो पिछले दो साल से पेंडिंग पड़ी थी। वारदात के राजफाश में भी चौकाने वाला तथ्य सामने आया। हत्यारोपित ने स्वीकार किया कि उसने महिला के सहयोग से ही उसके पति का कत्ल किया था।

पुलिस लाइन के सभागार में एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने गुरुवार को प्रेसवार्ता के दौरान बताया कि तीन जनवरी 2018 को एक युवक का शव अरनिया थानाक्षेत्र की एक नदी में मिला था। उसकी पहचान हापुड़ के पिलखुवा के नई आबादी निवासी इमरान पुत्र यासीन ने अपने भाई इकबाल के रूप में की थी। इकबाल ने मृतका की पत्नी फरजाना और उसके प्रेमी इमरान उर्फ मोबीन पुत्र सुलतान निवासी दिल्ली के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने मामले की जांच की तो दिल्ली निवासी इमरान का नाम सही नहीं पाया गया। इसके बाद जांच में असली हत्यारोपित अनीस मलिक उर्फ साहिल पुत्र अल्लादिया निवासी खदरा ओम सिनेमा के पास सिकंदराबाद का नाम सामने आया। अनीस मलिक को अरनिया पुलिस ने बुधवार रात मोहम्मदपुर कट से गिरफ्तार कर लिया। अनीस ने पूछताछ में बताया कि उसका मृतक इकबाल की पत्नी से अवैध संबंध थे। इकबाल विरोध करता था। इसलिए उन्होंने 26 दिसंबर 2017 की रात को फरजाना ने इकबाल को चाय में नशीली गोलियां खिला दी। बेहोश होने के बाद इकबाल के सिर पर डंडों से प्रहार कर हत्या कर दी। इसके बाद फरजाना और अनीस शव को अरनिया थानाक्षेत्र में नदी में फेंक गए। एसएसपी ने बताया कि फरजाना अभी फरार है। जल्द ही उसे भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस