जेएनएन, बुलंदशहर। सस्ती दरों पर मिलने वाले खाद्यान्न तथा सहकारी समिति पर खाद आदि के लिए ई-पोस मशीन का प्रयोग किया जाता है। इसी प्रकार गेहूं खरीद के लिए इस बार इलेक्ट्रॉनिक प्वाइंट आफ पर्चेज मशीन (ई-पॉस मशीन) से गेहूं की खरीद की जाएगी। शासन ने गेहूं की खरीद में पारदर्शिता लाने के लिए व्यवस्थाओं में बदलाव कर दिया है। जिले में खरीद के लिए 96 केंद्र निर्धारित किए जा चुके हैं।

जिले में 1.93 लाख हेक्टेयर में गेहूं की बुआई होती है और तीन लाख से अधिक किसान फसल से जुड़े हैं। गत वर्ष मंडी में 70 हजार कुंतल और क्रय केंद्रों पर 89 हजार कुंतल गेहूं खरीद की गई थी। हालांकि गेहूं खरीद का लक्ष्य 1.13 लाख कुंतल दिया गया था। वित्तीय वर्ष में एक अप्रैल से गेहूं 1975 रुपये प्रति कुंतल की दर से खरीद होगी। जबकि गत वर्ष गेहूं का मूल्य 1925 रुपये था। इस बार 50 रुपये प्रति कुंतल की दर से बढ़ोत्तरी की गई है। खुर्जा मंडी का एक और खादय विभाग के 10 तथा पीसीएस के 81 क्रय केंद्र जनपद में खोले जाएंगे। गेहूं बेचने के लिए किसानों को पंजीकरण कराना होगा। पंजीकरण के दौरान आधार कार्ड, मोबाइल नंबर और बैंक खाता सही भरना होगा। किसान के परिवार के किसी भी एक सदस्य को पंजीकरण कराने की सुविधा दी गई है। शासन ने इस बार खरीद के लिए ई पॉप मशीन की व्यवस्था की है ताकि खरीद केद्रों पर बिचौलिया सक्रिय न हो सकें। प्रिगर प्रिट मिलने पर ही किसान फसल बेच सकेंगे।

...

गेहूं नीति की बाबत बैठक

बुधवार को गेहूं खरीद नीति के एडीएम एफआर सहदेव मिश्रा की अध्यक्षता में सभागार में एक बैठक का आयोजन किया गया। इसमें जिला विपणन अधिकारी जेया करीम अहमद ने समस्त मंडी सचिवों और क्रय एजेंसी तथा केंद्र प्रभारियों को नीतियों की बाबत बताया। इसके साथ ई-पोप का प्रशिक्षण देने की बात कही।

...

इन्होंने कहा.

बायोमेट्रिक ई-पोप मशीन से इस बार गेहूं खरीद होगी। पंजीकृत किसान अथवा परिवार के एक सदस्य के भी अंगूठा मिलान कराया जाएगा। बिचौलिए इसमें सक्रिय न हो इसके लिए शासन ने इस बार ई-पॉस के माध्यम से शतप्रतिशत गेहूं खरीद करने के निर्देश दिए हैं।

-जेया करीम अहमद

जिला विपणन अधिकारी।

Edited By: Jagran