बुलंदशहर, जेएनएन। किसान की साल भर की मेहनत से उगाई जाने वाली फसल अब दलालों के चंगुल में नहीं फंसेगी। किसानों को सरकार द्वारा घोषित मूल्य पर गेहूं की बिक्री होगी और 72 घंटों में किसान के खाते में भुगतान पहुंचेगा। दलाल सस्ती दरों पर किसान से गेहूं खरीदकर क्रय केंद्र पर नहीं तौल सकेंगे। जिले में गेहूं खरीद ई-पोस मशीन से शुरू हो चुकी है।

गेहूं उत्पादन में पहले पायदान पर काबिज जनपद के किसानों का गेहूं इस बार ई-पोस मशीन द्वारा खरीदा जाएगा। इससे दलाल सक्रिय नहीं हो पाएंगे। जिला विपणन अधिकारी जेया करीम अहमद ने बताया कि पंजीकरण के बाद किसान जैसे ही केंद्र पर पहुंचेगा तो ई-पोस मशीन पर थंब लगाना होगा। थंब लगते ही किसान के मोबाइल पर गेहूं की दर, भुगतान की स्थिति, वजन, समय, क्रय केंद्र का ब्यौरा आदि मोबाइल पर पहुंचेगा। वहीं खातों में भुगतान पहुंचने पर भी किसान के मोबाइल पर मैसेज पहुंचेगा। उन्होंने बताया कि ई-पोस मशीन से होने वाली खरीद के लिए जिलाधिकारी रविद्र कुमार के नेतृत्व में क्रय केंद्र प्रभारियों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है। सोमवार को 107 में से 22 क्रय केंद्रों पर ई-पोस मशीन से गेहूं खरीद होगी।

पंजीकरण कराएं किसान

एडीएम एफआर सहदेव मिश्र ने बताया कि किसानों को गेहूं खरीद के लिए पंजीकरण में लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए। पंजीकरण के बाद ही किसानों को सरकारी गेहूं खरीद और अच्छी दरों का लाभ मिलेगा।

इन्होंने कहा..

ई-पोस मशीन से किसान के नाम पर दलाल क्रय केंद्र पर गेहूं तौल नहीं करा पाएंगे, यदि कराते हैं तो तुरंत पकड़े जाएंगे। ऐसे में किसान को अच्छी दर और सुविधाजनक तौल का लाभ मिलेगा।

-सहदेव कुमार मिश्र, एडीएम एफआर।

Edited By: Jagran