बुलंदशहर, जेएनएन। आखिरकार शहर के लोगों को जाम से निजात दिलाने के लिए बुधवार को सिस्टम सड़कों पर उतरा। जिलाधिकारी रविद्र कुमार और एसएसपी संतोष कुमार सिंह के आदेश के बाद सिटी मजिस्ट्रेट, यात्री कर अधिकारी और टीएसआइ पूरे अमले के साथ शहर के कई स्थानों पर पहुंचे। उन्होंने शहर में अवैध रूप से दौड़ रही 51 ई-रिक्शा को सीज करके पुलिस लाइन भेजा। इसके अलावा सड़कों पर टेढ़े-मेढ़े खड़े वाहनों का भी चालान किया गया। वहीं, कुछ वाहनों को क्रेन से उठाकर पुलिस लाइन में भेजा गया।

शहर में जाम की सबसे बड़ी समस्या है। बुधवार को इस समस्या से निपटने के लिए सिटी मजिस्ट्रेट अभय कुमार मिश्रा, यात्रा कर अधिकारी एसके शुक्ला, ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर कुलवीर राणा पुलिस बल के साथ सबसे पहले अंसारी रोड पर पहुंचे। यहां पर खड़े वाहनों को हटाया और कुछ को सीज किया। इसके बाद टीम काला आम चौक से होते हुए भूड़ चौराहे पर पहुंचे। यहां पर भी कई ई-रिक्शा को सीज किया। इसके अलावा आटो चालकों के कागजों को देखा गया। हालांकि बुधवार को कोई भी आटो चालक बेढंग से सड़क पर खड़ा नहीं मिला। वहीं, बुधवार को आटो और ई-रिक्शा चालकों की संख्या भी बेहद कम दिखी। अफसरों के सड़कों पर होने के कारण बुधवार को किसी भी स्थान पर जाम नहीं लगा। हालांकि कुछ देर के लिए शिकारपुर बाईपास पर जाम के हालात बने थे, लेकिन यहां पर तैनात किए गए सिपाही ने जाम नहीं लगने दिया। स्थाई समाधान की तलाश

सिटी मजिस्ट्रेट अभय कुमार मिश्रा का कहना है कि शहर में जाम न लगे। इसके लिए स्थाई समाधान किया जाएगा। जहां-जहां पर जाम लगता है। वहां पर ट्रैफिक पुलिस की रेगुलर ड्यूटी लगाई जाएगी। भीड़ वाले क्षेत्रों में संबंधित थाना पुलिस की ड्यूटी लगाई जाएगी। शहर में कुछ सड़कों से विद्युत पोल हटाकर पीछे किए जाएंगे। शहर के अतिक्रमण हटवाया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस