जागरण संवाददाता, बुलंदशहर:

नगरपालिका द्वारा वसूले जा रहे गब्बर ¨सह टैक्स के विरोध में व्यापारियों ने लड़ाई शुरू कर दी है। पालिका की टैक्स नीति के खिलाफ व्यापारी सड़क पर उतर आए हैं। पालिका को ज्ञापन देने के बाद दुकान-दुकान जाकर व्यापारियों के एक रजिस्टर पर हस्ताक्षर कराए जा रहे हैं। टैक्स नीति के खिलाफ व्यापारियों के हस्ताक्षरों का रजिस्टर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपा जाएगा।

नगरपालिका के जल कर और गृह कर के विरोध में पिछले कुछ माह से व्यापारियों और नगपालिका के बीच जंग चल रही है। व्यापारी संगठनों ने पहले पालिका चेयरमैन से लेकर डीएम तक को टैक्स नीति का विरोध और संशोधन की मांग के साथ ज्ञापन दिए थे। लेकिन इस पर नगरपालिका की आंख नहीं खुली।

अब संयुक्त उद्योग व व्यापार मंडल ने हस्ताक्षर अभियान चलाया है। संगठन के जिलाध्यक्ष नीरज ¨जदल ने बताया कि नगरपालिका की कर निर्धारण कमेटी के पास फाइल जाने के बाद महीनों तक चक्कर लगाने पड़ते हैं। इसके बाद भी चेहरा देखकर व्यापारियों पर गृह कर और जल कर थोपा जा रहा है।

नगरपालिका की टैक्स की मार से बेहाल व्यापारियों ने हस्ताक्षर अभियान शुरू कर दिया है। कमेटी के मेंबर बाजार में दुकानों पर जाकर व्यापारियों से एक रजिस्टर पर हस्ताक्षर करा रहे हैं। करीब तीन हजार व्यापारियों के हस्ताक्षर कराए जाने हैं। आगामी बोर्ड बैठक पर व्यापारियों की निगाह लगी है।

यदि आगामी बोर्ड बैठक में टैक्स की नीति को संशोधन करने का प्रस्ताव पास नहीं हुआ तो बड़े आंदोलन की रूपरेखा तैयार की जाएगी। इससे पहले लखनऊ जाकर व्यापारियों का एक प्रतिनिधि मंडल लखनऊ मे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को ज्ञापन सौंपेगा। इस दौरान नगरध्यक्ष वैभव गुप्ता, महामंत्री मनमोहन गुप्ता, जिला महाममंत्री असीम विनोद, उपाध्यक्ष दिनेश अग्रवाल, संगठन मंत्री विपिन गर्ग, नगर महामंत्री दिनेश पंडित, नगर प्रभारी नीरज अग्रवाल, जिला प्रभारी सरदार त्रिलोचन ¨सह, जिला कोषाध्यक्ष बालकिशन गुप्ता, नगर कोषाध्यक्ष लक्ष्मीकांत माहेश्वरी, सोनू पुरी और सोनू कोहरी आदि व्यापारियों की टीम हस्ताक्षर अभियान में जुटी है।

Posted By: Jagran