जेएनएन, बुलंदशहर। फ्रेट कॉरिडोर प्रकरण में न्यू खुर्जा जंक्शन रेलवे स्टेशन पर रविवार को पहुंची दूसरी मालगाड़ी से रैक उतारना शुरू हो गया। इस दौरान मौके पर पुलिस और पीएसी तैनात रही। जिससे किसान वहां पहुंचकर रैक उतारने के कार्य में बाधा ना डाल सके। उधर दूसरी तरफ सात किसानों पर दर्ज हुए मुकदमें के बाद किसानों में रोष व्याप्त है।

रेलवे की महत्वाकांक्षी परियोजना डेडिकेडटेड फ्रेट कॉरीडोर के लिए खुर्जा और सिकंदराबाद तहसील क्षेत्र के करीब 27 गांवों की भूमि का अधिग्रहण हुआ है। अधिग्रहित भूमि के उचित मुआवजा समेत कई मांगों को लेकर किसान धरना-प्रदर्शन करते आ रहे हैं। बीते 23 अक्टूबर को किसानों ने न्यू खुर्जा जंक्शन स्टेशन दोषपुर के निकट मालगाड़ी से रैक (पटरियों) को नहीं उतरने दिया था। शुक्रवार को पुलिस-प्रशासन ने किसानों से नोकझोंक के बीच मालगाड़ी से रैक उतरवानी शुरू कर दी थी। साथ ही सात किसानों पर मुकदमा दर्ज करते हुए किसान नेता बब्बन चौधरी को जेल भेज दिया था। रविवार को दूसरी मालगाड़ी न्यू खुर्जा जंक्शन स्टेशन के निकट पहुंची। जिससे रैक उतारने का कार्य शुरू हो गया है। उधर सात किसानों से खिलाफ मुकदमा दर्ज होने के बाद से ही क्षेत्र के किसानों में रोष है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस