बुलंदशहर, जेएनएन। पश्चिमी विक्षोभ के कारण मौसम बदल गया है। दिनभर आसमान में गड़गड़ाते रहे। रुक-रुककर दिनभर बूंदाबांदी होती रही। इससे पारा तीन डिग्री सेल्सियस लुढ़क गया। दिनभर सूर्यदेव के भी दर्शन नहीं हुए। इसके चलते लोगों को सर्दी का अहसास हुआ। गुरुवार को सर्दी ओर बढ़ने वाली है।

बुधवार को तड़के से ही आसमान में बादल उमड़ने लगे। सुबह करीब साढ़े सात बजे बारिश की कुछ हल्की बूंदे गिरी। इसके बाद सुबह दस बजे एक बार फिर बूंदाबांदी हुई। फिर दोपहर में बारह बजे और फिर दोपह एक बजे इसी तरह शाम तक बूंदाबांदी का सिलसिला चलता रहा। सूरज निकलने के इंतजार में सुबह से शाम हो गई। बदले मौसम में अधिकतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान में तीन डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई। अधिकतम तापमान 16 डिग्री और न्यूनतम तापमान 09 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। जैसे ही बूंदाबांदी होती तो भीगने से बचने के लिए लोग दाएं बाएं होते। इससे सड़क और बाजार में अफरातफरी सी मच जाती। मौसम विभाग के मुताबिक गुरुवार को भी आसमान में बादल आएंगे और पारा ओर नीचे जाएगा। इसके चलते बुलंदशहरवासियों को एक बार फिर से कड़ाके की सर्दी का अहसास होगा। शुक्रवार और शनिवार को मौसम साफ रहेगा। धूप भी खिलेगी, लेकिन सर्दी रहेगी। जिला अस्पताल के फिजीशियन डा. चन्द्रप्रकाश का कहना है कि सर्दी की बारिश में भीगने से बचें। सर्दी के चलते लोग बुखार, खांसी, पेट का इंफेक्शन, ब्लड प्रेशर, हार्ट संबंधी बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। इस मौसम से फसलों को भी लाभ होगा। हल्की बारिश से सरसों में लगा कीट भी मर जाएगा। पारा अधिकतम न्यूनतम

बुलंदशहर 16 09

दिल्ली 16 09

देहरादून 11 06

शिमला 0 -07

जम्मू 14 05

कुल्लू 09 03

मेरठ 15 09

मुजफ्फरनगर 14 08

श्रीनगर 03 05

लखनऊ 17 12

नैनीताल 04 01

मसूरी 02 -03

मुंबई 28 20

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस