बुलंदशहर, जेएनएन। प्रदेश सरकार ने सोमवार को राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के इंटेंसिव जनपदों की रैकिग जारी की है। जिसमें जनपद ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया है।

प्रदेश सरकार महिलाओं को स्वरोजगार देकर आत्मनिर्भर बनाने के लिए गंभीरता के साथ प्रयास कर रही है। प्रदेश सरकार ने सोमवार को इंटेसिव जनपदों द्वारा महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए किए गए प्रयासों की रैंकिग जारी की है। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा महिलाओं को स्वरोजगार उपलब्ध कराते हुए सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ समूह तक पहुंचाया है। जिससे समूह की महिला स्वरोजगार के माध्यम से आर्थिक रूप से सशक्त बन रही है।

जनपद में बिजली सखी से लेकर सामुदायिक शौचालयों की देखभाल, सरकारी स्कूलों की पोशाक, सरकारी राशन की दुकान, आंगनबाडी केंद्रों पर सूखा खाद्यान्न की जिम्मेदारी समेत मास्क व मसाला तथा अन्य खाद्य सामग्री तैयार करने का कारोबार भी शुरू कराया गया है। इतना ही नहीं स्वरोजगार के लिए समूह को आर्थिक सहायता भी उपलब्ध कराई गई है। जिसके माध्यम से समूह अपने कारोबार को बड़े पैमाने पर चलाने में सक्ष्म हुए हैं। सरकार द्वारा इंटेंसिव जनपदों को दिए गए लक्ष्य को तेजी के साथ पूरा किया गया है। इसलिए जनपद रैंकिग में दूसरे पायदान पर पहुंचना है। सरकार की मंशा को धरातल पर उतारने में मिशन अफसरों द्वारा अथक प्रयास किया गया है।

इन्होंने कहा..

इंटेंसिव जनपदों की जारी रैकिग में जिले को दूसरा स्थान मिला है। जिला-प्रशासन के सहयोग से ही सरकार की योजना को धरातल पर समूह की हर सदस्य तक पहुंचाया गया है।

- केएन पांडेय, उपायुक्त स्वत: रोजगार

राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के स्वयं सहायता समूह को स्वरोजगार के अवसर प्रदान किए गए हैं। भविष्य में भी महिलाओं को अन्य अवसर प्रदान किए जाएंगे।

- रविन्द्र कुमार, डीएम

समूह की महिलाओं को सामुदायिक शौचालयों की जिम्मेदारी भी दी गई है। जिससे महिलाओं को रोजगार के नए अवसर मिले हैं।

- अभिषेक पांडेय, सीडीओ