बुलंदशहर, जेएनएन। सितंबर माह के उत्तरा‌र्द्ध में रिकार्ड तोड़ बारिश ने क्षेत्र में गन्ना क्रेशर संचालकों की सारी योजना पर पानी फेर दिया है। इससे क्रेशर संचालन में करीब दो सप्ताह के विलंब की संभावना है। बीबीनगर क्षेत्र में विगत कई वर्षो से गन्ना क्रेशरों का संचालन आमतौर पर सितंबर के मध्य में प्रारम्भ हो जाता था। जिससे एक ओर जहां चीनी मिलों के सत्र प्रारम्भ होने से पूर्व गन्ना क्रेशर संचालक अपना लाभ अर्जित करते थे वहीं दूसरी ओर गन्ना किसान अपनी आर्थिक आवश्यकताएं पूरी करने के साथ ही पशुओं के लिए अगौले के रूप में चारे की व्यवस्था भी कर लेते थे। तथा गन्ने के खेत जल्दी खाली हो जाने पर वह सरसों की बुआई भी समय रहते कर लेते थे। परंतु वर्तमान सत्र में उक्त चक्र गड़बड़ा गया है। दरअसल चालू सितंबर माह में हुई जबर्दस्त बारिश से जहां एक ओर गन्ने के खेत गीले हो गए वहीं दूसरी ओर क्रेशरों के परिसरों व भट्टियों में पानी भर जाने से वह संचालन की स्थिति में नहीं हैं। इसके अतिरिक्त गन्ना क्रेशरों पर गत वर्ष का एकत्र ईधन भी बारिश में भीग कर गीला हो गया। इस विषय में क्रेशर संचालक नारायण ने बताया कि हालांकि पिछले वर्षो में सितंबर के द्वितीय सप्ताह में क्रेशर चालू हो जाते थे लेकिन वर्तमान सत्र में बारिश ने सारा खेल बिगाड़ दिया है। भट्टी व ईधन सूखने के बाद ही क्रेशर संचालन प्रारम्भ हो पाएगा।

Edited By: Jagran