बुलंदशहर, जेएनएन। देहात कोतवाली की नईमंडी पुलिस चौकी पिछले कुछ दिनों से विवादों में चल रही थी। कई बार एसएसपी को शिकायत की गई। डीजी कार्यालय लखनऊ तक इस चौकी में तैनात सिपाहियों की शिकायत की गई, जिसके बाद एसएसपी ने इस चौकी पर तैनात कई सिपाहियों की गतिविधियों पर नजर रखवाई। चौकी में ही तैनात कुछ पुलिसकर्मियों को इन पर नजर रखने के लिए कहा गया था। कुछ शिकायत सही पाई गई तो कुछ गलत। हालांकि एसएसपी ने सोमवार को कड़ा निर्णय लिया और यहां पर तैनात 14 सिपाहियों को अलग अलग थानों में भेज दिया।

सिपाहियों पर था काम में लापरवाही का आरोप

दरअसल, नईमंडी चौकी प्रभारी रहे एसआइ प्रताप बालियान को करीब दो सप्ताह पहले ही एसएसपी ने हटा दिया था और कानपुर देहात से आए दारोगा बहादुर सिंह को इस चौकी का प्रभारी बनाया गया था। यहां पर तैनात कुछ सिपाहियों पर आरोप लग रहे थे कि वह अपने काम में लापरवाही करते हैं और पीड़ितों को इंसाफ दिलाने के बजाए वसूली करते हैं, जिसके बाद एक शिकायत डीजीपी कार्यालय लखनऊ में की गई। इन सिपाहियों के बारे में एसएसपी से पूछा गया। उन्होंने जांच करने के बाद कार्रवाई करने के लिए कहा। जिसके बाद सिपाहियों की गोपनीय जांच में पाया गया कि उन्होंने एक संगठन बनाया हुआ है और वह काम में लापरवाही बरत रहे हैं।

इस चौकी से हटाकर दूसरे स्‍थानों पर भेजा

कई बार उच्च अधिकारियों की चेतावनी के बाद भी सिपाही सुधरने के लिए तैयार नहीं थे। एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि सिपाहियों की गतिविधियां ठीक नहीं थी। अवैध वसूली के आरोप लग रहे थे। इसलिए सभी सिपाहियों को अलग अलग थानों और चौकी पर भेजा गया है।

इन पुलिसकर्मियों के हुए तबादले

हेड कांस्टेबल जयप्रकाश, कांस्टेबल सुनील कुमार, विकसित, पदम सिंह, महिपाल, राजेंद्र सिंह, चंदन सिंह, अश्वनी कुमार, देवेंद्र कुमार, नीटू, अवनीश, अक्षय कुमार, टोनी कुमार, यशपाल नईमंडी चौकी में तैनात थे। इन सभी को इस चौकी से हटाकर दूसरे थानों और चौकियों में भेजा गया है। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस