जेएनएन, बुलंदशहर। शिकारपुर में अपनी पत्नी एवं दो बेटियों को मौत के घाट उतारने वाले आरोपी पिता की मौत की दुआ उसका बड़ा पुत्र दिलशाद अल्लाह से मांग रहा है। रोते- बिलखते हुए उसने कहा कि पूरा परिवार दुष्ट पिता ने उजाड़ दिया। उसे अपने इस गुनाह की सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए। सपने में भी कभी नहीं सोचा था कि पिता ही मां एवं दोनों बहनों की मौत का कातिल बन जाएगा। घटना में दिलशाद की तीसरी बहन सुल्ताना जो किसी तरह कातिल पिता के हमले में घायल होकर बच गई। जिला चिकित्सालय में जिदगी और मौत से जूझ रही है।

गुरुवार को कोतवाली पुलिस के एक दरोगा द्वारा जिला चिकित्सालय पहुंचकर घायल सुल्ताना के बयान दर्ज किए। घायल सुल्ताना ने घटना के समय सिर्फ अपने पिता को ही मौजूद बताया। जिसने हथोड़े से सिर पर वार किए। घटना के 48 घंटे बीत जाने के बावजूद पुलिस तिहरे हत्याकांड के आरोपित तक नहीं पहुंच पाई है। जबकि, आरोपी की धरपकड़ के लिए एसएसपी संतोष कुमार सिंह द्वारा एक टीम गठित की गई है, लेकिन अभी तक पुलिस के हाथ खाली हैं। आरोपित के मोबाइल का स्विच आफ आ रहा है। कोतवाली प्रभारी सुभाष सिंह ने बताया कि पुलिस ने बीती रात उसके रिश्तेदारों समेत कई ठिकानों पर दबिश दी, लेकिन आरोपी का पता नहीं लग सका है। बुधवार की देर शाम मृतका शबाना एवं दोनों बेटियों के शव पोस्टमार्टम के बाद घर पहुंचे। बाद में तीनों शवों को नगर स्थित कब्रिस्तान में सुपुर्दे खाक कर दिए। पुलिस का कहना है कि आरोपित की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप