जेएनएन, बुलंदशहर। अपराध में संलिप्त वाहनों को व्यक्तिगत व दबिश में इस्तेमाल करना पुलिस का पहला शौक है। ऐसे ही एक मामले में थाना रामघाट में तैनात सिपाही अवैध शराब के साथ पकड़ी गई सीज गाड़ी को लेकर मथुरा चला गया। वहां गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हुई तो हड़कंप मच गया। इसी बीच सिपाही की सरकारी पिस्टल भी गायब हो गई, जो घंटों बाद मिल गई। एसएसपी ने सिपाही को निलंबित करते हुए एसओ रामघाट की विभागीय जांच शुरू करा दी है।

पिछले महीने थाना रामघाट पुलिस ने जांच के दौरान लग्जरी गाड़ी को पकड़ा था। गाड़ी से अवैध शराब बरामद हुई थी। पुलिस टीम ने गाड़ी को सीज कर रिपोर्ट दर्ज कर ली थी। इसके बाद तीन दिन पहले थाना रामघाट पर तैनात सिपाही नरेंद्र कुमार उसी सीज गाड़ी को लेकर मथुरा चला गया। बताया जा रहा है कि मथुरा के थाना राया क्षेत्र में वही गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई। एक्सीडेंट के बाद सिपाही घबरा गया और गाड़ी छोड़ कर गायब हो गई। इसी दौरान उसके नाम आवंटित सरकारी पिस्टल गायब हो गई। इसका पता लगा तो सिपाही ने तुरंत एसओ रामघाट वीरेंद्र सिंह को सूचना दी। दुर्घटना व पिस्टल गायब होने का पता चला तो वह भी हैरान रह गए। सिपाही लौट कर गाड़ी के पास पहुंचा लेकिन पिस्टल नहीं मिली। हालांकि कई घंटों बाद पिस्टल बरामद हो गई। इसकी खबर एसएसपी संतोष कुमार सिंह को लगी तो वह भी हैरान रह गए। एसएसपी ने बताया कि सिपाही नरेंद्र कुमार को निलंबित कर दिया है और एसओ वीरेंद्र सिंह के खिलाफ विभागीय जांच शुरू करवा दी है।

Edited By: Jagran